नोएडा में आग का तांडव: कई गैस पाइप लाइन के सहारे उतरे, एक शख्स ने बूढ़ी मां को नीचे फेंककर बचाई जान


नोएडा ब्यूरो। नोएडा के गढ़ी चौखंडी गांव के पांच मंजिला इमारत के भूतल में जिस वक्त आग लगी उस वक्त लोग सो रहे थे। आग का पता चलते ही इमारत के चार अन्य फ्लैटों में रहने वाले करीब 20 लोगों की जान सांसत में आ गई। चारों मंजिल पर बने फ्लैट से निकलने का रास्ता ग्राउंड फ्लोर से होकर जाता था। जहां आग लगी थी। आग की लपटें व धुआं देखकर लोगों के बीच अफरातफरी मच गई। कोई गैस पाइप लाइन पकड़ कर नीचे उतरा तो कोई बांस की सीढ़ी के सहारे नीचे आया। पहली मंजिल पर रहने वाले नरेंद्र शर्मा अपनी वृद्ध मां को पहली मंजिल से नीचे लटकाकर सकुशल बाहर निकाला। तो कई ने पड़ोसी की बालकनी में जाकर अपनी जान बचाई किया। करीब आधे घंटे तक वहां पर अफरातफरी मची रही।
इमारत में रहने वाले सभी लोगों को सुरक्षित निकलने के बाद ही पुलिस व अग्निशमन विभाग की टीम ने राहत की सांस ली।
गढ़ी चौखंडी गांव में जिस पांच मंजिला इमारत में आग लगी वह अवैध है। इसके आसपास भी दर्जनों की संख्या में ऐसा ही अवैध निर्माण किया गया है। जहां बिल्डर ने बगैर नियम व मानकों के संकरे रास्तों पर इमारतें खड़ी कर दी हैं। इमारत में आग से बचाव के भी कोई उपकरण नहीं थे। प्राधिकरण के क्षेत्र में इस तरह की इमारतें कैसे बनी, यह बड़ा सवाल है। अगर ये इमारतें मानकों के अनुरूप बनता तो लोगों की जान भी बच जाती है और इमारत में रहने वाले अन्य लोगों को परेशानी भी नहीं होती।
आग लगने की इस घटना के बाद पूरी इमारत खाली हो गई तब दोपहर के वक्त एसडीएम दादरी, तहसीलदार व अन्य कर्मचारियों के साथ मौके पर पहुंचे। गाड़ी से उतरकर घटनास्थल पर पहुंचे और भूतल के अंदर घुसे और डेढ़ मिनट तक रहे। डेढ़ मिनट की जांच के बाद साहब वहां से तहसीलदार के साथ वहां से चले गए। डेढ़ मिनट की जांच के बाद साहब ने अपने अधीनस्थ को जांच रिपोर्ट देने का आदेश दिया और वहां से निकल गए।
गढ़ी चौखंडी गांव में पांच मंजिला इमारत के भूतल पर बने फ्लैट में सोमवार सुबह एसी फटने के बाद आग लग गई। हादसे में फ्लैट निवासी दो सगी बहनों की जलकर मौत हो गई। जबकि माता, पिता और भाई गंभीर रूप से झुलस गए। तीनों को ग्रेटर नोएडा के यथार्थ अस्पताल ले जाया गया। जहां से उन्हें दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में रेफर कर दिया गया।
सोमवार सुबह हुए हादसे के बाद पांच मंजिला इमारत और आसपास इलाके में अफरातफरी मच गई। ऊपरी मंजिल पर बने चार फ्लैटों में रहने वाले 20 लोगों ने बांस की सीढ़ियों व गैस पाइप लाइन के सहारे उतरकर अपनी जान बचाई। तीन दमकल वाहनों ने करीब 30 मिनट में आग पर पूरी तरह काबू पा लिया।


Popular posts from this blog

उत्तर पूर्वी जिला पुलिस ने ऑपरेशन अंकुश के तहत छेनू गैंग के चार बदमाशों को किया गिरफ्तार

जीटीबी एंक्लेव थाने में तैनात दिल्ली पुलिस की महिला एसआई ने लगा ली फांसी, पुलिस ने बचाई जान

रोटरी क्लब इंदिरपुरम परिवार के पूर्व प्रधान सुशील चांडक को ज़ोन २० का बनाया गया असिस्टंट गवर्नर