खाकी नहीं, अब पीली जैकेट में नजर आएंगे सिविल डिफेंस वॉलेंटियर्स


दिल्ली ब्यूरो। पुलिसकर्मियों के साथ आए दिन सिविल डिफेंस वालेंटियर की कहासुनी और हाथापाई के बाद उनकी वर्दी को अलग दिखाया जा रहा है। पुलिस की तरफ से लंबे समय से ट्विटर पर मुहिम छेड़ी गई थी, जिसमें सिविल डिफेंस वालों की खाकी वर्दी बदलने की बात कही गई थी। इसके बाद डायरेक्टर सिविल डिफेंस की तरफ से एक सर्कुलर जारी किया गया है, जिसमें सिविल डिफेंस वालंटियर के लिए अपनी खाकी वर्दी के ऊपर पीली रंग की जैकेट पहनने को अनिवार्य कर दिया गया है। सर्कुलर में यह भी लिखा है कि इनकी पोस्टिंग से लेकर इनकी हरकतों तक के बारे में वार्डन हर सप्ताह डायरेक्टरेट को एक रिपोर्ट भेजेगा।
सूत्र के मुताबिक, लंबे समय से पुलिस ट्विटर पर खाकी वर्दी पर एकाधिकार होने का दावा करती आ रही है। पुलिस कमिश्नर तक ने सिविल डिफेंस की खाकी वर्दी को लेकर आपत्ति जताई थी। वहीं सिविल डिफेंस वालों के ऐसे कई विडियो वायरल हुए थे, जिसमें पुलिस ने छवि खराब होने का दावा किया था। उन विडियोज में कभी सिविल डिफेंस वालेंटियर लोगों को पीटते हुए दिख रहे हैं, तो कभी मां के चालान के नाम पर उगाही करते हुए।
सिविल डिफेंस के सूत्रों की माने तो डायरेक्टर की तरफ से जारी सर्कुलर में छह बिंदुओं पर बात कही गई है, जिसमें से सभी बिंदु वॉलेंटियर पर अंकुश लगाने के हैं। डायरेक्टर को सिविल डिफेंस वालों से कहना पड़ रहा है कि वह अब चाहे ड्यूटी पर हो या नहीं, उन्हें ट्रैफिक नियमों का पालन करना पड़ेगा। वहीं खुद भी कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन करना पड़ेगा। उनके अनुशासन को लेकर हर सप्ताह सोमवार को वार्डन की तरफ से रिपोर्ट भेजी जाएगी। वही इलाके का एसडीएम उनकी किसी स्थान पर तैनाती को लेकर दोबारा से विचार करेगा।


Popular posts from this blog

उत्तर पूर्वी जिला पुलिस ने ऑपरेशन अंकुश के तहत छेनू गैंग के चार बदमाशों को किया गिरफ्तार

जीटीबी एंक्लेव थाने में तैनात दिल्ली पुलिस की महिला एसआई ने लगा ली फांसी, पुलिस ने बचाई जान

रोटरी क्लब इंदिरपुरम परिवार के पूर्व प्रधान सुशील चांडक को ज़ोन २० का बनाया गया असिस्टंट गवर्नर