दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के हाथ से फिसल गया शार्प शूटर और दो लाख का इनामी बदमाश शाहरूख


दिल्ली ब्यूरो। चार मर्डर में वॉन्टेड शाहरूख दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के हाथ से फिसल गया। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने रविवार दोपहर 12ः00 बजे से लेकर शाम 6ः00 बजे तक यमुनापार में फील्डिंग लगाई थी, लेकिन कुख्यात गैंगस्टर हाशिम बाबा का शार्प शूटर जाल में नहीं फंसा। अलबत्ता इसका करीबी वेलकम का सलमान उर्फ जेडी (24) हत्थे चढ़ गया। इसके जरिए अब पुलिस शाहरूख तक पहुंचने की जुगत में है। आशंका है कि शाहरूख को पुलिस की भनक लग गई होगी, इसलिए वह ऐन वक्त पर नहीं पहुंचा।
पुलिस सूत्रों के मुताबिक, स्पेशल सेल को पता चला कि आंबेडकर नगर थाना इलाके के दक्षिणपुरी का रहने वाला शाहरूख (27) आजकल गाजियाबाद के लोनी इलाके में फरारी काट रहा है। वह वेलकम के सलमान उर्फ जेडी के साथ मिलकर लूटपाट की वारदातों को अंजाम दे रहा है। दोनों के रविवार शाम को ताहिरपुर स्थित राजीव गांधी सुपर स्पेशलिटी अस्पताल के करीब मिलने की खबर मिली। दोनों के नॉर्थ ईस्ट दिल्ली और शाहदरा में किसी बड़े वारदात को अंजाम देने के इनपुट मिले थे।
स्पेशल सेल की टीम लोधी कॉलोनी से वजीराबाद रोड पहुंची तो इनपुट मिला कि दोनों अब लोनी रोड पर मिलेंगे, जहां से किसी वारदात को अंजाम देने निकलेंगे। लिहाजा पुलिस टीम ने दोपहर 12ः00 बजे लोनी रोड स्थित जवाहर नगर पर जाल बिछाया। लेकिन काफी इंतजार के बाद कोई नहीं मिला। करीब 3ः30 बजे इनपुट मिला कि दोनों अब शाम 6ः00 बजे गोकुलपुरी फ्लाइओवर के नीचे मिलेंगे। दोनों यहां से भजनपुरा में किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने निकलेंगे। पुलिस टीम गोकुलपुरी फ्लाइओवर के नीचे घात लगाकर बैठ गई। करीब 6ः00 बजे बाइक में सलमान उर्फ जेडी वहां पहुंच गया। वह बगैर हेलमेट के था और शाहरुख का इंतजार करने लगा। करीब 15 मिनट तक इंतजार करने के बाद वह बाइक स्टार्ट करने लगा तो स्पेशल सेल की टीम ने उसे सरेंडर करने के लिए कहा। सलमान ने पिस्टल निकालकर पुलिस की तरफ तान दी। वह गोली चला पाता इससे पहले उसे दबोच लिया। इससे पिस्टल और चार कारतूस बरामद किए।
शाहरुख यमुनापार के प्रीत विहार, मंडावली, जाफराबाद और साउथ जिले के आंबेडकर नगर समेत चार मर्डर में वॉन्टेड है। इसकी गिरफ्तारी पर दो लाख का इनाम रखा गया है। इसने आंबेडकर नगर में 5 अगस्त 2014 को पहला मर्डर किया। तिहाड़ जेल में गैंगस्टर अब्दुल नासिर और शक्ति नायडू ने शाहरूख को गैंगस्टर मोहम्मद इरफान उर्फ छेनू पहलवान की हत्या का काम सौंपा। चार नाबालिगों ने इसके इशारे पर 23 दिसंबर 2015 को कड़कड़डूमा कोर्ट रूम में छेनू पर फायरिंग की थी। छेनू जख्मी होने के बावजूद बच गया, लेकिन एक पुलिसकर्मी की मौत हो गई। अब ये तिहाड़ में बंद हाशिम बाबा के लिए काम कर रहा है।