महाराष्ट्र के नवी मुंबई नगर निगम के वाशी स्थित कोविद सेंटर में वरिष्ठ डॉक्टरों का मनमाना रवैया


कांति जाधव,(मुंबई ब्यूरो)। महाराष्ट्र प्रदेश के नवी मुंबई स्थित नगर निगम के वाशी कोविड सेंटर में एक अजब मामला आया है। सूत्रों के अनुसार केंद्र में मानधन के आधार पर कार्यरत डॉक्टरों को अनावश्यक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इस संबंध में आयुष डॉक्टरों ने परिपूर्ण न्यूज़ संवाददाता को बताया कि इस केंद्र में एलोपैथी और आयुष डॉक्टरों से अलग अलग बर्ताव किया जाता है। आयुष डॉक्टर यहां अपना निजी क्लीनिक संभाल कर एक कोरोना योद्धा के तौर पर सेवा कर रहे हैं। इसके अतिरिक्त आयुष डॉक्टरों को यहां वरिष्ठ डॉक्टरों द्वारा निर्धारित समय के अनुसार काम करने की अनुमति भी नहीं है। इसके चलते कई डॉक्टर सेवा छोड़ने की तैयारी कर रहे हैं। जिससे गोविंद सेंटर में मरीजों को परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। इस कोविद सेंटर में महिला आयुष चिकित्सकों व स्टाफ के लिए अलग से चेंजिंग रूम की भी व्यवस्था नहीं है। वरिष्ठ चिकित्सक आयुष चिकित्सकों से अभद्र भाषा का प्रयोग कर उनका अपमान भी कर रहे हैं। केंद्र में कार्यरत महिला आयुष डॉक्टरों ने नाम न छापने की शर्त पर बताया की उन्हें इस केंद्र में सीनियर डॉक्टर सभी आयुष डॉक्टरों को मानसिक रूप से प्रताड़ित कर रहे हैं । हमें सप्ताहांत की छुट्टी नहीं मिलती है। बीमार पड़ने पर भी किसी को छुट्टी नहीं दी जाती है। बिना अनुमति छुट्टी ली जाती है तो दो दिन का मानदेय काट लिया जाता है।  अलग शौचालय न होने के कारण महिलाएं बहुत शर्मिंदा होती हैं। इसी तरह, कोई चेंजिंग रूम नहीं है। अतिरिक्त पीपीई किट नहीं दी जाती है। मास्क, ग्लव्स, सैनिटाइजर समय पर नहीं दिए जाते। दिवंगत आयुष डॉक्टरों को पांच मिनट लेट होने पर भी 'लेट' के रूप में चिह्नित किया जाता है। एक दिन नाइट ड्यूटी से अनुपस्थित रहने पर तीन दिन का वेतन काट लिया जाता है। इस केंद्र में 350 से 400 आयुष चिकित्सक कार्यरत हैं और सभी डॉक्टरों को वरिष्ठ चिकित्सक परेशान कर रहे हैं। इस संबंध में सभी डॉक्टरों ने नवी मुंबई नगर आयुक्त से भी शिकायत की है, मगर नगर आयुक्त द्वारा इस शिकायत पर अभी तक कोई कार्यवाही नहीं की गई है यह नवी मुंबई प्रशासन पर एक सवालिया निशान है।