सट्टा किंग की हत्या का बदला लेने घूम रहा रिश्तेदार गिरफ्तार


दिल्ली ब्यूरो। जेल में बंद कुख्यात गैंगस्टर अब्दुल नासिर की सरपरस्ती में सट्टा रैकेट चलाने वाले सूफी कलवा की हत्या का बदला लेने की साजिश रचने वाले को पुलिस ने पकड़ लिया है। डीसीपी (नॉर्थ ईस्ट) संजय कुमार सैन ने बताया कि करीब सवा साल से फरार चल रहे आरोपी रहमत खान (47) को जिले के स्पेशल स्टाफ ने बुधवार शाम को लोनी गोल चक्कर से अरेस्ट किया है। वह जाफराबाद स्थित डीडीए फ्लैट्स का रहने वाला है। इससे एक पिस्टल, तीन कारतूस और चोरी की एक बाइक बरामद हुई है।
पुलिस के मुताबिक, मोहम्मद हसन उर्फ सूफी कलवा का 26 सितंबर 2019 को न्यू उस्मानपुर के ब्रह्मपुरी इलाके में घोषित बदमाश राजू बेचैन और उसके साथी ने गोली मारकर मर्डर कर दिया था। सूफी कलवा मकोका के तहत जेल में बंद अब्दुल नासिर का सहयोगी था और सट्टा रैकेट का सरगना था। बेचैन और उसके बीच सट्टे को लेकर तनातनी चल रही थी। उत्तराखंड पुलिस ने 50 हजार इनामी राजू बेचैन को करीब दो साल बाद 6 अगस्त को हरिद्वार से गिरफ्तार किया था।
आरोप है कि सूफी हत्याकांड का बदला लेने के लिए उसके साढ़ू रहमत खान ने राजू बेचैन के भाई के मर्डर की साजिश रची थी। बेचैन के भाई जुल्फिकार उर्फ बिट्टू का भजनपुरा थाना इलाके के नूर-ए-इलाही में ढाबा है। रहमत ने सूफी के कर्मदपुरी में रहने वाले गुर्गे सुहेल (21) को पिस्टल और कट्टा मुहैया कराया। वह 28 अप्रैल 2020 की शाम को जुल्फिकार की हत्या करने के इरादे से गया, लेकिन गोली जुल्फिकार को नहीं लगी और पब्लिक ने सुहेल को मौके से पकड़ लिया। इससे पूछताछ में रहमत के नाम का खुलासा हुआ। वह सवा साल से फरार चल रहा था, जिस पर पहले से छह केस दर्ज हैं।