दिल्ली कैंट मामला: सेना के सीसीटीवी कैमरों से हुआ खुलासा, बच्ची से मालिश करवाता था आरोपी पंडित


दिल्ली ब्यूरो।
दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा की जांच में नया खुलासा सामने आया है। आरोपी पंड़ित राधेश्याम ने जिंदा बच्ची को श्मशान के रजिस्टर में मृत दिखा दिया था। दिल्ली पुलिस ने सेना के कैमरों से मिले सीसीटीवी फुटेज के जिए इसका खुलासा किया है। ये भी खुलासा हुआ है कि पंडित ने रजिस्टर्ड में बच्ची की मौत का कारण नहीं लिखा हुआ है। पुलिस ने पंडित राधेश्याम के दो मोबाइल उसके घर से बरामद कर लिए हैं। दोनों ही मोबाइल को फोरेंसिक जांच के लिए भेज दिया है। 
अपराध शाखा के सीनियर पुलिस अधिकारियों के अनुसार पंडित राधेश्याम ने बच्ची की मौत का समय श्मशान घाट के रजिस्टर्ड में शाम 5.30 बजे लिखा हुआ है। सेना से मिले सीसीटीवी कैमरों की फुटेज में बच्ची शाम 5.30 बजे श्मशान घाट के पास घूमती हुई दिखाई दे रही है। बच्ची की मौत करीब सात बजे हुई है। 7.30 से लेकर 8 बजे के बीच बच्ची का अंतिम संस्कार किया गया। करीब सवा सात बजे बच्ची की मां को श्मशान घाट बुलाकर लाया गया था। अपराध शाखा को सेना के कई कैमरों की सीसीटीवी फुटेज मिली हैं। इन कैमरों से पता लग रहा है कि श्मशान घाट में कौन कब आया था और कौन कब बाहर गया था। अपराध शाखा की जांच में ये बात सामने आई है कि पंडित राधेश्याम रंगीन मिजाज का व्यक्ति है। 
पुलिस के सामने गांव के जो गवाह आए हैं उन्होंने बताया है कि पंडित नौ वर्षीय बच्ची से अपनी मालिश करवाता था। साथ ही उसने कई बार बच्ची की अश्लील फिल्म दिखाई थी। गांव वालों के सामने जब ये बात गई तो मामले को रफा-दफा कर दिया गया था। आरोपी पंडित राधेश्याम ने पूछताछ में बच्ची के साथ दुष्कर्म करने की बात स्वीकार की है। उसने माना है कि वह अक्सर बच्ची के साथ छेड़छाड़ करता था। पुलिस अधिकारियों के अनुसार राधेश्याम ने श्मशान घाट को शराबियों व नशेड़ियों को अड्डा बना रखा था।


Popular posts from this blog

उत्तर पूर्वी जिला पुलिस ने ऑपरेशन अंकुश के तहत छेनू गैंग के चार बदमाशों को किया गिरफ्तार

जीटीबी एंक्लेव थाने में तैनात दिल्ली पुलिस की महिला एसआई ने लगा ली फांसी, पुलिस ने बचाई जान

रोटरी क्लब इंदिरपुरम परिवार के पूर्व प्रधान सुशील चांडक को ज़ोन २० का बनाया गया असिस्टंट गवर्नर