मेरठ में दारोगा के मकान की छत से कूदा अपहृत बेटी का पिता, मौके पर मौत


मेरठ। मेरठ जनपद के थाना पल्लवपुरम अंतर्गत एकता नगर में अगवा की गई एक बेटी के पिता ने एक दारोगा के मकान की छत से कूदकर कथित रूप से आत्महत्या कर ली। पुलिस अधीक्षक (सिटी) विनीत भटनागर ने घटना के बारे में बताया कि बरेली के थाना इज्जतनगर क्षेत्र से एक युवती कई दिन पूर्व लापता हुई थी। युवती के स्वजनों ने गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। उन्होंने बताया कि मांमले की जांच-पड़ताल थाने में तैनात दारोगा सुनील कुमार मिठालिया कर रहे थे।
उन्होंने बताया कि दारोगा का घर मेरठ में पल्लवपुरम स्थित एकतानगर में है। पुलिस को युवती की लोकेशन बुलंदशहर में मिली थी। विवेचना कर रहे दारोगा सुनील कुमार के साथ युवती के पिता रामचंद्र और उनके एक रिश्तेदार बुधवार को बुलंदशहर आ गए थे लेकिन काफी तलाश के बावजूद युवती का पता नहीं लगा।
बुलंदशहर पुलिस ने आश्वासन दिया कि खोजबीन कराई जाएगी और उनसे बृहस्पतिवार को दोबारा आने को कहा था जिसके बाद दारोगा बरेली जाने के बजाय अपने घर मेरठ चले आए। उनके साथ युवती के 60 वर्षीय पिता रामचंद्र और दो अन्य व्यक्ति भी थे।
एसपी ने बताया कि रात में सभी लोग खाना खाकर सो गए। 26 अगस्त को बृहस्पतिवार तड़के करीब चार बजे युवती के पिता दारोगा के मकान की छत से कूद गए। उनकी मौके पर ही मौत हो गई।
पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कराकर उसे परिवार को सौंप दिया। सुबह ही वे शव बरेली ले गए। पुलिस द्वारा इस घटना को कई घंटे तक मीडिया से छिपाने का प्रयास किया गया।