शादी के नाम पर बांग्लादेश से किशोरियों को लाकर बेचने का आरोप


गाजियाबाद ब्यूरो। गाजियाबाद में कोर्ट के आदेश पर लिंक रोड थाने में एक महिला और लेखपाल के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। शिकायतकर्ता का आरोप है कि महिला बांग्लादेश से किशोरियों को लाकर शादी करवा रही है। कई बांग्लादेशी परिवारों के फर्जी पेपर बनाकर रहने का आरोप लगाया है।
मामले में थाने में शिकायत के बाद एक्शन नहीं होने पर कोर्ट में अर्जी दी गई थी। एसपी सिटी सेकंड ज्ञानेंद्र सिंह ने बताया कि कोर्ट के आदेश पर महिला और लेखपाल सरेंद्र सिंह पर मुकदमा दर्ज किया गया है। मामले की जांच की जा रही है।
25000 में लाई गई किशोरी
शिकायत में आरोप लगाया गया है कि महिला ने पहले अपने कई परिचितों को गाजियाबाद में लाकर रखा और फर्जी तरीके से उनके पेपर तैयार कराए। इसके साथ ही वह 25 हजार रुपये लेकर बांग्लादेश से शादी के नाम किशोरियों को लेकर आती है। इस दौरान बच्चियों को बेच दिया जाता है।
रुपये लेकर फर्जी पेपर तैयार करने का आरोप
आरोप है कि इस प्रकार के लोगों की मदद सरकारी विभाग के कुछ लोग भी कर रहे हैं। वह उनसे रुपये लेकर मर्जी के पेपर तैयार कर दे रहे हैं। पुलिस इन सभी पॉइंट की जानकारी कर रही है। शिकायतकर्ता ने जिन एरिया और लोगों के बारे में जानकारी दी है, पुलिस उन्हें भी वैरिफाई कर रही है।
शिकायतकर्ता का आरोप है कि आरोपित महिला उनके पूरे परिवार को परेशान कर रही है। साथ ही उनकी प्रॉपर्टी पर कब्जा करना चाहती है। काफी परेशान होने के बाद उन्होंने जानकारी की तो पता चला कि महिला के आधार कार्ड में उसकी उम्र 48 साल है, जबकि उनकी बेटी की उम्र 38 है। इस हिसाब से उसने 10 की उम्र बेटी को जन्म दिया था। आरोप है कि डॉक्यूमेंट किसी भी प्रकार से तैयार करवाए जा रहे हैं। कुछ रुपये खर्च कर आसानी से डॉक्यूमेंट बन रहे हैं।
गाजियाबाद में पूर्व में अवैध तरीके से रहते कई विदेशी नागरिक मिल चुके हैं। बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान के नागरिक शामिल हैं। हाल में एटीएस ने मसूरी क्षेत्र से रोहिंग्या को गिरफ्तार किया था। इसके बाद लोनी विधायक नंद किशोर गुर्जर ने रोहिंग्याओं को फर्जी पेपर के आधार पर घर तक देने के आरोप लगाए थे। इसके साथ टीला मोड़ क्षेत्र से पुलिस ने बिना किसी डॉक्यूमेंट के एक हजार रुपये में आधार कार्ड बनाने वाले दो युवकों को गिरफ्तार किया था।