नोएडा में इंटरनेशनल कॉल सेंटर के जरिये चल रहा थी करोड़ों की ठगी, रात के समय होता था पूरा 'खेल'


नोएडा ब्यूरो। बिसरख कोतवाली पुलिस ने गुरुवार को इंटरनेशनल कॉल सेंटर का पर्दाफाश किया है। मौके से पुलिस ने अवैध रुप से चल रहे कॉल सेंटर के मैनेजर समेत 32 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। ये अमेरिका, आस्ट्रेलिया समेत अन्य देशों के साथ के लोगों को ऑनलाइन कॉल कर ठगी करते थे। पकड़े गए आरोपी रोजाना 3 से 4 हजार डॉलर तक का ठगी व फर्जीवाड़ा के जरिये मुनाफा कमाते थे। इनके पास से पुलिस ने 2 लैपटाप, 50 हार्ड डिस्क, 50 मॉनिटर, 50 सीपीयू, 50 कीबोर्ड, 50 माउस, 32 मोबाइल फोन, 20 हेडफोन, एक पैन ड्राइव 16 जीबी, हेडफोन जब्त किए हैं।
मुखबिर से मिली थी सूचना
एडीसीपी अंकुर अग्रवाल ने बताया कि मुखबिर से सूचना मिली थी कि बिसरख कोतवाली में एक फर्जी कॉल सेंटर चल रहा है। ग्रेनो वेस्ट स्थित चेरी काउंटी सोसाइटी के पीछे कुछ युवक शाम करीब 8 बजे आते हैं और सुबह लौट जाते हैं। सूचना के आधार पर पुलिस ने मौके पर दबिश दी थी। मौके से 32 लोगों को गिरफ्तार किया है। ये दिल्ली, यूपी और बिहार के रहने वाले हैं।
हिंदी-अंग्रेजी समेत अन्य भाषाओं को भी जानते थे। ये विदेशी लोगों को इंटरनेशनल कॉल के जरिये बात करते और कंप्यूटर में वायरस की बात कहकर एक्सेस ले लेते थे। जिसका डाटा हैक कर उनके खाते से रकम अपने खाते में ट्रांसफर कर लेते थे। पुलिस जांच में सामने आया है कि जिन खातों में रकम ट्रॉसफर कराई गई। वो फर्जी एड्रेस पर खुलवाए हुए थे।
एडीसीपी ने बताया कि कॉल सेंटर संचालक का एक हैकर भी सामने आया है। सोशल मीडिया पर यह हैकर विदेशियों को लुभावने के लिए मैसेज, पोस्ट आदि के जरिए लिंक पर क्लिक करने के लिए विवश करता था। अगर कोई व्यक्ति उस लिंक को खोलता था तो उसका लैपटॉप और कंप्यूटर काम करना बंद कर देता था। हालांकि, यह वायरस नहीं होता था।
पिछले एक साल चल रहा था कॉल सेंटर
एडीसीपी ने बताया कि यह कॉल सेंटर यहां पिछले एक साल से चल रहा था। पकड़े गए आरोपियों में कॉल सेंटर का मैनेजर परविंद्र पाल सिंह भी शामिल है। हालांकि, अभी कॉल सेंटर संचालक समेत 20 आरोपी अभी भी फरार हैं। कॉल सेंटर संचालक इन युवाओं को हर माह 20 हजार से सवा लाख तक की सैलरी देता था।

Popular posts from this blog

उत्तर पूर्वी जिला पुलिस ने ऑपरेशन अंकुश के तहत छेनू गैंग के चार बदमाशों को किया गिरफ्तार

जीटीबी एंक्लेव थाने में तैनात दिल्ली पुलिस की महिला एसआई ने लगा ली फांसी, पुलिस ने बचाई जान

रोटरी क्लब इंदिरपुरम परिवार के पूर्व प्रधान सुशील चांडक को ज़ोन २० का बनाया गया असिस्टंट गवर्नर