पश्चिम बंगाल में फर्जी वैक्सीनेशन को लेकर ईडी ने 10 स्थानों पर की छापेमारी, आईएएस अधिकारी भी हुआ गिरफ्तार


कोलकाता। देश ने एक बार फिर से मंगलवार के दिन उपलब्धियां हासिल की। पिछले 5 दिनों में मंगलवार को दूसरी बार एक करोड़ से ज्यादा कोरोना वैक्सीन की डोज लगाई गई। इसी बीच वैक्सीन फर्जीवाड़ा की भी खबरें सामने आईं। आपको बता दें कि कोलकाता में वैक्सीन फर्जीवाड़ा की जानकारी मिलने के बाद प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने कई स्थानों पर छापेमारी की। 
कोलकाता में वैक्सीन फर्जीवाड़ा से जुड़े हुए 10 स्थानों पर ईडी ने छापेमारी की। वहीं एक आईएएस अधिकारी की भी गिरफ्तारी हुई है। प्राप्त जानकारी के मुताबिक आईएएस अधिकारी देबंजन देब पर फर्जी वैक्सीनेशन ड्राइव चलाने का आरोप था, जिसके बाद उसकी गिरफ्तारी हुई।
दरअसल, कोलकाता के एमहर्स्ट स्ट्रीट स्थित सिटी कॉलेज में 18 जून को वैक्सीनेशन कैंप लगाया गया था, जिसमें स्पूतनिक वी वैक्सीन लगाई गई। इस कैंप को भी आईएएस अधिकारी देबंजन देब ने लगवाया था। फर्जी वैक्सीनेशन कैंप चलाने वाले देबंजन देब ने 10 दिन तक लोगों को वैक्सीनेट किया। इस दौरान कोरोना वैक्सीन की जगह पर निमोनिया का इंजेक्शन लगाया गया। 
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक जब मामला उजागर हुआ तो लोग पैनिक हो गए और कई तरह की समस्याओं की शिकायत दर्ज कराई। इससे पहले भी पश्चिम बंगाल में वैक्सीनेशन फर्जीवाड़ा की खबरें सामने आ चुकी हैं।