महिला पुलिसकर्मी के प्यार में पत्नी व 2 बच्चों का किया खून, 3 साल बाद खुला राज

नोएडा ब्यूरो। तीन वर्ष पहले पत्नी, दो बच्चों और दोस्त की हत्या के बाद खुद की मौत का स्वांग रचने वाले आरोपी को कासगंज पुलिस ने गिरफ्तार किया है। बिसरख कोतवाली क्षेत्र के पंच विहार कॉलोनी निवासी आरोपी राकेश ने पत्नी रत्नेश, बेटे अर्पित (3) और बेटी अवनी (2) की हत्या कर मकान के बेसमेंट में शव दबा दिए थे। आरोपी ने किसी की हत्या कर मथुरा-कासगंज रेल लाइन पर युवक का शव फेंक दिया था। फिलहाल यह खुलासा नहीं हो सका है कि वह शव किसका था। 2018 में हुई वारदात के बाद रेलवे लाइन पर मिले उस शव की शिनाख्त राकेश के रूप में हुई थी। बुधवार को कासगंज पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर पूरे मामले का खुलासा कर दिया। 
बुधवार को साक्ष्य जुटाने के लिए कासगंज पुलिस आरोपी को लेकर बिसरख कोतवाली क्षेत्र के पंच विहार कॉलोनी पहुंची। बिसरख पुलिस की मदद से उसके मकान की खुदाई की गई। खुदाई में मिलीं हड्डियां बरामद करने के बाद आरोपी को लेकर कासगंज पुलिस रवाना हो गई। हड्डियों की फोरेंसिक जांच कराई जाएगी। 
मूलरूप से अलीगढ़ के नौगवां गंगीरी गांव निवासी राकेश बिसरख कोतवाली क्षेत्र की पंच विहार कॉलोनी में पत्नी रत्नेश, बेटी अवनी और बेटे अर्पित के साथ रहता था। राकेश ने पत्नी और दोनों बच्चों की 14 फरवरी 2018 हत्या कर दी थी। राकेश महिला सिपाही से प्रेम करने लगा था। उसने साजिश रचकर वारदात की थी।
वारदात के बाद रत्नेश के पिता ने बिसरख कोतवाली में पत्नी और दोनों बच्चों के अपहरण का केस दर्ज कराया था। रिपोर्ट दर्ज कराने के बाद राकेश नौगवां निवासी दोस्त राजेंद्र के साथ पत्नी और बच्चों की तलाश करने के लिए एटा स्थित अपने ससुराल गया था। पुलिस के मुताबिक 25 अप्रैल 2018 को कासगंज-मथुरा रेल लाइन पर एक सिर कटी लाश बरामद हुई थी। उसके दोनों हाथ भी कटे थे। उसकी शर्ट की जेब में राकेश की एलआईसी रसीद रखी थी। जिसके आधार पर पुलिस ने उसकी पहचान राकेश के रूप में की और शव परिजनों को सौंप दिया था।
इधर कासगंज पुलिस ने शक के आधार पर उसके पिता बनवारीलाल को हिरासत में लेकर पूछताछ की है। बनवारीलाल यूपी पुलिस सेवा में थे। पुलिस ने बिसरख कॉलोनी में स्थित मकान के आसपास रहने वालों से भी पूछताछ की है। वारदात में परिजनों के वारदात में शामिल होने की बात कही है। 
तीन ससुराल वालों पर दर्ज हुआ था हत्या का केस
राकेश के भाई राजीव ने इस मामले में उसके ससुर मोतीलाल और दो साले जितेंद्र और रवि के खिलाफ हत्या का केस दर्ज कराया था। एटा पुलिस ने राकेश की बाइक लावारिस हालत में मिरहाची रोड से बरामद की थी।