अवैध खनन में था पुलिस का माफिया से गठजोड़, अलवर के एमआईए एसएचओ और 2 कांस्टेबल सस्पेंड


अलवर। राजस्थाान के अलवर जिले में अवैध खनन माफियाओं से मिलीभगत के आरोपी पुलिस वालों पर गाज गिरी है। जिले के एमआईए थाना प्रभारी विरेंद्र यादव और दो कांस्टेबल सस्पेंड कर दिए गए हैं। अलवर की एसपी तेजस्विनी गौतम ये तीनों के निलंबन आदेश जारी कर दिए हैं। रविवार को ही घेगोली और गोलेटा गांव के पहाड़ों में अवैध खनन की शिकायत मिली थी। इसके बाद एसएचओ यादव, कांस्टेबल मूलाराम और निजामुद्दीन के खिलाफ खनन माफिया से गठजोड़ का दोषी पाया गया। इसके बाद एसपी अलवर तेजस्वनी गौतम ने तीनों का निलंबित कर दिया है।
इससे पहले अलवर एसपी ने आईपीएस विकास सांगवान के नेतृत्व में पुलिस और क्यूआरटी की टीम ने अवैध खनन के खिलाफ एक्शन लिया था। इस कार्रवाई में अवैध खनन माफियाओं को पकड़ा गया था। पुलिस ने 23 ट्रैक्टर ट्रॉली, 1 जेसीबी और 1 कम्प्रेशर के साथ बड़ी संख्या में अवैध खनन में काम आने वाला सामान जब्त किया था। इसके बाद पुलिस अधीक्षक तेजस्विनी गौतम ने पुलिस की मिलीभगत के मामले की जांच पड़ताल के निर्देश दिए गए।
डिप्टी एसपी विकास सांगवान ने इस पूरे मामले की जांच पड़ताल की। इसके बाद जांच रिपोर्ट एसपी को दी गई। इसके बाद एसपी ने मंगलवार को एसएचओ और 2 कांस्टेबलों को निलम्बित कर दिया। एसपी ने मिलीभगत की विस्तृत जांच सीओ राजगढ़ अंजलि जोरवाल को सौंपी है।