बुलंदशहर जिला अस्पताल में रिश्वतखोरी का खेल कैमरे में कैद, सीएमओ ने 2 बाबुओं को किया सस्पेंड


बुलंदशहर। उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में स्वास्थ्य विभाग के एक रिटायर्ड कर्मचारी की पेंशन और ईपीएफ निकलवाने के नाम पर दो बाबुओं के रिश्वत लेने का वीडियो वायरल हो गया है। रिटायर कर्मचारी इतना परेशान हो गया कि पीड़ित ने रिश्वतखोर कर्मचारियों को रिश्वत लेते हुए कैमरे में कैद कर लिया और मामले की शिकायत स्वास्थ्य निदेशक से कर दी। हालांकि मामला संज्ञान में आने के बाद बुलंदशहर के सीएमओ ने सोमवार की देर शाम 2 कर्मचारियों को निलंबित कर दिया और अकाउंटेंट के खिलाफ विभागीय कार्रवाई के लिए शासन को पत्र भेजा है। दरअसल, बुलंदशहर के अनूपशहर कोतवाली क्षेत्र के रहने वाले सत्येंद्र बुलंदशहर नगरीय मलेरिया इकाई में सेवारत थे। सत्येन्द्र को पेंशन और ईपीएफ निकलवाना था इसलिए वह रोजाना दफ्तर के चक्कर काट रहा था। आरोप है कि सत्येंद्र से अकाउंटेंट निर्देश कुमार ने 20 हजार रुपये की रिश्वत मांगी। 19 हजार रुपये में मामला तय हो गया। सत्येन्द्र ने 2-2 हज़ार के 7 नोट कुल 14000 रुपये निर्देश को दिए और रिश्वतखोरी को कैमरे में कैद कर लिया। वीडियो में मलेरिया विभाग में तैनात कर्मचारी सुरेंद्र 4000 रुपये लेता दिख रहा है।
सीएमओ के मुताबिक एसीएमओ डॉ रोहतास यादव और एसीएमओ डॉ सुनील कुमार की 2 सदस्य जांच टीम गठित की गई है। रिश्वत की वीडियो और मामले की जांच रिपोर्ट आने के बाद आज मलेरिया विभाग में सेवारत कर्मचारी सुरेंद्र सहित दो को निलंबित कर दिया है, जबकि अकाउंटेंट निर्देश के खिलाफ विभागीय कार्रवाई करने के लिए शासन को पत्र भेजा गया है।