थाने में प्रताड़ना? एक ही पुलिस स्टेशन में 3 महीने में दो पुलिसकर्मियों ने दी जान


दिल्ली ब्यूरो। 4 जून की दोपहर को सब इंस्टपेक्टर राहुल सिंह ने पांडव नगर पुलिस स्टेशन में अपनी सर्विस रिवॉल्वर से खुद को गोली मार ली। इस घटना के 3 महीने बाद होमगार्ड बृजलाल (46 साल) ने इसी पुलिस स्टेशन में पंखे से लटकर जान दे दी। दो दिन पहले हुए इस घटना में मृतक बृजलाल ने भी सूइसाइड नोट छोड़ा है और कथित रूप से थाने के एसएचओ पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है।
पुलिस स्टेशन में तैनात पुलिसकर्मियों के बीच दोनों ही घटनाएं चर्चा का विषय बनी हुई हैं और बहुत से ऐसे सवाल हैं जिनके जवाब किसी के पास नहीं हैं। होमगार्ड बृजलाल की मौत के बाद एसएचओ विद्याधर को 5 सितंबर को डिस्ट्रिक्ट लाइन भेज दिया गया है।
बता दें किबृ‌जलाल थाने की दूसरी मंजिल पर एक कमरे में पंखे से लटके मिले थे। उन्हें ईस्ट दिल्ली के लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल ले जाया गया था, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। उनके परिवार में पत्नी और 4 बच्चे हैं। ‌बृजलाल के भतीजे कुलदीप ने मीडिया को बताया कि एसएचओ उन्हें प्रताड़ित करते थे और बात-बात पर गाली-गलौज करते थे। इस बारे में परिवार को भी पता था लेकिन हमें नहीं पता था कि बात इतनी बढ़ जाएगी कि मेरे चाचा अपनी जान दे देंगे। कुलदीप ने बताया कि घटना के दिन भी वह बाकी दिनों की तरह घर से ड्यूटी के निकले थे, बाद में हमें पता चला कि उन्होंने फांसी लगा ली है।
अब तक की जांच में यह बात सामने आई है कि बृजलाल पर करीब 25 लाख रुपए का कर्ज था। घटना की जांच कर रहे एक अफसर ने बताया है कि हम इसकी पूरी जानकारी हासिल करने की कोशिश कर रहे हैं और मामले की पूरी जांच की जाएगी। उन्होंने कहा कि लोगों ने हमें बताया है कि उन्होंने बहुत सा पैसा कमेटियों में लगा रखा था हालांकि अभी इस बारे में अभी पक्के तरीके से कुछ नहीं कहा जा सकता। बृजलाल के पास से एक सूइसाइड नोट बरामद हुआ है, जिसमें एसएचओ पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाया गया है।
बृजलाल के भतीजे कुलदीप ने कर्ज के बारे में पूछने पर कहा, 'अगर मेरे चाचा इतने ज्यादा कर्ज में थे तो लोग कभी न कभी अपना पैसा मांगने के लिए जरूर आते, लेकिन कभी कोई नहीं आया। हां, लोग कमेटियों में पैसा जरूर लगाते हैं लेकिन वह कोई मुद्दा नहीं है। उन्होंने यह भी कहा कि बृजलाल की पत्नी को उनके बदले नौकरी और मुआवजा दिया जाना चाहिए क्योंकि उनके 4 बच्चे हैं और सबसे छोटे बच्चे की उम्र अभी 10 साल है।'
दूसरी ओर, जून में सर्विस रिवॉल्वर से पांडव नगर थाने में जान देने वाले राहुल सिंह के ससुर भी अधिकारियों से मदद के लिए भटक रहे हैं। घटना से कुछ समय पहले ही सिंह की शादी हुई थी। उनकी पत्नी पूजा ने कहा, 'हमारी शादी कुछ समय पहले ही हुई थी इसलिए राहुल ने मुझे अपने काम के बारे में ज्यादा कुछ नहीं बताया था। पूछने पर हमेशा यही कहते थे कि दिन भर ऑफिस के काम के बाद घर पर ऑफिस की बात नहीं करना चाहते। पूजा ने कहा कि मुझे नहीं पता उन्होंने जान देने जैसा कदम क्यों उठाया।'
बता दें कि राहुल सिंह के साथियों ने उन्हें इंसाफ दिलाने की मांग करते हुए सोशल मीडियो पर कैंपेन शुरू किया है। पांडव नगर थाने में ही 4 जून को सब इंस्पेक्टर राहुल सिंह (31) ने सर्विस रिवॉल्वर से खुद को गोली मारकर जान दे दी थी। घटना के बाद राहुल की अपने साथी पुलिसकर्मी के साथ बातचीत का एक ऑडियो भी वायरल हुआ था, जिसमें उन्होंने परेशान करने का आरोप लगाया था।