12 थानों की सीमाओं के चक्र में फंसा है सहारनपुर की कोतवाली देहात का दायरा, पुलिस और फरियादी दोनों परेशान


सहारनपुर,(उत्तर प्रदेश)। 12 थाना क्षेत्रों की सीमाओं के चक्कर में उलझा होने से यूपी के सहारनपुर की कोतवाली देहात का दायरा काफी पेचीदा है। कोतवाली देहात पुलिस को अपने ही थाना क्षेत्र में जाने के लिए दूसरे थानों के इलाकों से होकर गुजरना पड़ता है। कोई घटना होने पर 3 थाने पार कर कोतवाली सदर बाजार पुलिस शेखपुरा कदीम और रामनगर क्षेत्र में पहुंचती है। इसके चलते दूर- दराज रहने वाले फरियादी भी अपनी समस्याओं के लिए परेशान रहते हैं। अब कोतवाली देहात के शेखपुरा कदीम, रामनगर और चिलकाना रोड क्षेत्र किसी अन्य थाने में मर्ज करने या फिर नए थाने बनाए जाने का प्रस्ताव तैयार किया गया है।
घटनास्थल तक पहुंचने में पुलिस को लग जाता काफी समय
जिले के महत्वपूर्ण और संवेदनशील थानों में शुमार देहात कोतवाली का भूगोल पीड़ितों और पुलिस के लिए परेशानी का सबब बना हुआ है। शहर के चारों तरफ के इलाके देहात कोतवाली क्षेत्र में आते हैं। कोतवाली की सीमा 12 थानों से मिलती हैं। ऐसे में कोई वारदात होने पर पुलिस को घटनास्थल पर पहुंचने के लिए 15 से 20 किलोमीटर तक का सफर तय करना पड़ता है। इससे वारदात होने पर पुलिस को पहुंचने में देर लगती है। इसका फायदा उठाकर बदमाश भागने में सफल हो जाते हैं। लंबे समय से कोतवाली का भूगोल ठीक न होने की वजह से पुलिस और नागरिक परेशान है और सीमा विवाद भी आए दिन सामने आते हैं।
दूरी ज्यादा होने के कारण फरियादियों को परेशानी
मामूली झगड़ा या कोई बड़ी आपराधिक घटना होने के बाद पीड़ितों को पुलिस बुलाने के लिए परेशानी का सामना करना पड़ता है। सीमा क्षेत्र देहात कोतवाली का होने की वजह से कई प‌ीड़ितों को कई थानों की सीमाओं से होकर गुजरना पड़ता है। उदाहरण के तौर पर रामनगर चौकी और शेखपुरा कदीम चौकी कोतवाली सदर बाजार के सीमा क्षेत्र से सटी हुई है। यहां से कोतवाली सदर बाजार जाने में महज 10 मिनट का समय लगता है। अगर यहां से कोतवाली देहात जाना पड़े तो 6 किलोमीटर से 7 किलोमीटर तक की दूरी तय करनी पड़ती है।
महानगर में मल्हीपुर रोड, चिलकाना रोड, गंगोह रोड, गांव रामनगर, गांव शेखपुरा सहित शहर के चारों तरफ का इलाका देहात कोतवाली क्षेत्र में आते हैं, जबकि इन क्षेत्रों के नजदीक कोतवाली सदर बाजार, कोतवाल मंडी, ‌थाना कुतुबशेर, थाना जनकपुरी, नगर कोतवाली नज़दीक पड़ते हैं। लेकिन पीड़ित को देहात कोतवाली तक पहुंचने के लिए इन थानों की सीमाओं से होकर गुजरना पड़ता है। कोतवाली देहात इंस्पेक्टर उमेश रोरिया ने अपने थाने का एक रोड मैप बनाया है। रोड मैप में दिखाया गया है कि कोतवाली देहात से शेखपुरा कदीम जाने के लिए पुलिस को सबसे पहले तो थाना मंडी उसके बाद नगर कोतवाली फिर थाना जनकपुरी और उसके बाद फिर कोतवाली सदर बाजार से होकर गुजरना पड़ता है।
देहात कोतवाली के भूगोल में बदलाव की तैयारी
नागरिकों और पुलिस की परेशानी को देखते हुए अब देहात कोतवाली के भूगोल में बदलाव की कवायद की जा रही है। कोतवाली इंस्पेक्टर उमेश कुमार रोरिया ने उच्चाधिकारियों के निर्देशानुसार डीआईजी के माध्यम से शासन को प्रस्ताव भेजा है, जिसके तहत अब कोतवाली के इलाके बदलने की कवायद भी शुरू हो गई है। इसके तहत चिलकाना रोड कोतवाली मंडी, मल्हीपुर रोड को कोतवाली सदर बाजार और गांव शेखपुरा में थाना स्थापित करने प्लान बनाकर भेजा गया है।
देहात कोतवाल की सीमाएं कोतवाली सदर बाजार, नगर कोतवाली, थाना जनकपुरी, थाना चिलकाना, कोतवाली बेहट, थाना फतेहपुर, थाना गागलहेड़ी, थाना नागल, कोतवाली रामपुर मनिहारान, थाना फतेहपुर, बड़गांव और कुतुबशेर से मिलती हैं क्या कहना है एसएसपी का वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉक्टर एस चनप्पा का कहना था कि कोतवाली देहात का सीमा क्षेत्र शहर के चारों ओर फैला हुआ है। कोतवाली देहात के सीमा क्षेत्र में कुछ जटिलताएं हैं। इसके बारे में उच्च अधिकारियों को अवगत कराया गया है। जल्दी कई नए थाने बनाए जाने का भी प्रस्ताव है कुछ थानों के कार्यलयों का स्थान भी बदलना है। इस संबंध में आवश्यक प्रक्रिया चल रही है।