राजधानी दिल्ली में रामलीला मंचन और दुर्गा पूजा को मंजूरी, कोविड प्रोटोकॉल अनिवार्य


दिल्ली ब्यूरो।
कोरोना महामारी के बीच त्योहारी सीजन को देखते हुए राजधानी में छठी से आठवीं तक की कक्षाओं के लिए स्कूल खोलने का फैसला टाल दिया गया है। अब त्योहारी सीजन के बाद ही स्कूल खोले जाएंगे। वहीं, रामलीला मंचन व दुर्गा पूजन आयोजन को कोरोना नियमों के पालन की शर्त पर मंजूरी दे दी गई है। उपराज्यपाल अनिल बैजल की अध्यक्षता में बुधवार को हुई दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) की बैठक में ये निर्णय लिए गए। डीडीएमए के मुताबिक, दिल्ली में कोविड बहुत हद तक काबू में है, लेकिन सावधानी बरतना जरूरी है। बैठक के दौरान निर्णय लिया गया कि दिवाली के बाद शेष कक्षाओं के लिए भी स्कूल फिर से खोल दिए जाएंगे। इससे पहले डीडीएमए ने 9वीं से 12वीं कक्षा के सभी सरकारी और निजी स्कूलों को एक सितंबर को फिर खोलने की अनुमति दी थी। बैठक के दौरान दिल्ली पुलिस और जिला प्रशासन के अधिकारियों को त्योहारी सीजन के दौरान कोरोना नियमों को सख्ती से लागू करने के लिए निर्देश दिया गया है। इसके तहत त्योहारी सीजन के दौरान एक ही स्थान पर जमा होने वाली भीड़ से बचाव करने के साथ दशहरा व दूर्गा पूजन में सामाजिक दूरी का पालन कराने को कहा गया है। डीडीएमए ने बैठक में स्पष्ट किया कि रामलीला मंचन व दूर्गा पूजन के दौरान मेले का आयोजन नहीं किया जाएगा। आयोजन स्थल पर केवल सीटों की संख्या के अनुसार ही लोगों को आने की अनुमति होगी। किसी भी तरह के खाने-पीने के स्टॉल लगाने की भी इजाजत नहीं है। आयोजकों को सुनिश्चित करना होगा कि वहां 100 फीसदी लोगों ने मास्क लगा रखा हो। वहीं, आयोजन स्थल पर प्रवेश व निकासी के लिए अलग से गेट बनाने होंगे।डीडीएमए आयोजन के लिए जल्द ही मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) भी जारी करेगा। पुलिस व जिला प्रशासन के अधिकारी आयोजन स्थल पर कोरोना नियमों का सख्ती से पालन कराएंगे।