रेलवे लाइन बुंदेलखंड की बन सकती है लाइफ लाइन : प्रवीण पाण्डेय


फतेहपुर ब्यूरो।  अतर्रा रेलवे स्टेशन को जंक्शन का आधार बना ब्रिटिश शासन में फतेहपुर रेल सागर परियोजना की एक ऐसी लकीर खींची गयी जिसके मूर्त रूप लेने के बाद उत्तर प्रदेश ही नहीं बल्कि मध्य प्रदेश के कई जनपद जीवन रेखा कही जाने वाली रेल लाइन से सीधे जुड़ जाते, लेकिन द्वितीय विश्व युद्ध की विभीषिका में यह परियोजना जंग खा गयी है। उसके बाद की कई परियोजनाओं में जहां रेल गाड़ियां फर्राटे भर रही हैं वहीं यह फाइलों में कैद होकर रह गयी है। शेष बचे हैं तो सिर्फ वह पत्थर जिन्हें निशान देही के लिये लगा दिया गया था। प्रधानमंत्री के बांदा आगमन को लेकर एक फिर इस परियोजना को लेकर लोगों में आशाए जागी हैं।
ब्रिटिश हुकुमत ने क्षेत्रीय बदहाली को देखते हुये सन 1913 में अतर्रा को जंक्शन बना सागर से फतेहपुर तक रेल लाइन बिछाने का प्रस्ताव किया था। सन 1917 में दो सर्वे करा अंतिम प्रोजेक्ट के रूप में उत्तरप्रदेश-मध्यप्रदेश राज्यों को जोड़ते हुये गोस्वामी तुलसीदास की जन्मस्थली राजापुर से कमासिन-बबेरू-बिसंडा-पुनाहुर-अतर्रा-नरैनी-करतल में निशानदेही के रूप में पत्थर गाड़ दिये तथा आवागमन का कोई अन्य साधन न होने पर मध्यप्रदेश के सागर से जोड़ने की स्वीकृति प्रदान कर दी गयी। बताया जा रहा है कि इसके लिये भूस्वामियों को मुआवजा तक दे दिया गया था। तत्कालीन डिस्ट्रिक्ट काउंसिल के सदस्य पं.दुर्गाप्रसाद वैद्य द्वारा रेलवे बोर्ड को स्वीकृति हेतु जनवरी 1923 में अनुमति हेतु प्रार्थनापत्र दिया गया था। सन 1927 में मेसर्स सपूर जी गाडवोल एण्ड कंपनी बांबे को रेल लाइन बिछाने का ठेका दिया गया। तत्समय 31 लाख 78 हजार 49 रुपया अनुमानित लागत तय की गयी। ठेकेदार कंपनी ने अतर्रा रेलवे स्टेशन के केन नहर तक खाली पड़ी जमीनों में नई रेल लाईन बिछाने के उपकरण, पटरियां आदि रख दी। सन 1936 में पटरी बिछाने को मिट्टी डालने का काम शुरु हो गया। इसी बीच सन 1939 में द्वितीय विश्वयुद्ध शुरू हो गया। सारे विकास कार्य रोक दिये गये। फौज के लिये अतर्रा में रखे उपकरण अन्यत्र भेज दिये गये। युद्ध जब समाप्त हुआ ,पर सागर-फतेहपुर रेल परियोजना पूरी तरह जंग खा गयी। बुंदेलखंड राष्ट्र समिति के केंद्रीय अध्यक्ष प्रवीण पाण्डेय ने कहा की अगर  रायबरेली ऊंचाहार खागा फतेहपुर अतर्रा बांदा सागर रेलवे लाईन का निर्माण हो जाय तो यह बुंदेलखंड के वरदान सिद्ध होगी l पूरवर्ती कांग्रेस सरकार में कई बार मांग किया गया था लेकिन धरातल में आज भी कुछ नहीं दिख रहा है । 
बुंदेलखंड अति पिछड़ा है। ऐसे में रेल सुविधाओं को विस्तार यहां के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण और फायदेमंद होगा।  बुंदेलियों द्वारा दो मुख्य मांगों में 65 किलोमीटर की बांदा-फतेहपुर और करीब 110 किलोमीटर लंबी बांदा-कालिंजर-सतना रूट पर नई रेल लाइन डलाने की मांग लंबे समय से की जाती रही है। 
देश के आजादी के बाद से महोबा खजुराहो के अलावा कोइ्र नई रेल लाइन नही डाली गई है, जबकि यहां के अनेक क्षेत्र रेल सेवा से जुडे नही हैं। अतर्रा से बबेरू होते हुए फतेहपुर से ऊंचाहार (रायबरेली) के लिए नई रेल लाइन बिछाई जाए। साथ में हमीरपुर मुख्यालय एवं राठ को रेल लाइन से जोड़ा जाए। ऐतिहासिक पर्यटक स्थल कालींजर को भी रेल लाइन से जोड़ने की आवश्यकता है।