डॉक्टरी की पढ़ाई करते करते बन गए 'बावर्ची और वेटर', सीनियर्स के डर से बर्तन भी धोए!


भरतपुर। राजस्थान के भरतपुर मेडिकल कॉलेज का एक वीडियो सामने आया है। इसमें कुछ मेडिकल स्टूडेंट बर्तन साफ करते हुए दिख रहे हैं। साथ ही बच्चे बर्तनों को मेस के अंदर ले जाते हुए भी दिख रहे हैं। यह वीडियो 1 सितंबर का बताया जा रहा है । उस दिन मेडिकल कॉलेज में मेस का उद्घाटन किया गया था। मेस का उद्घाटन मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. रजत श्रीवास्तव ने फीता काट कर किया था। इस वीडियो को लेकर ये भी कहा जा रहा है कि इस वीडियो में खड़ा हुआ छात्र दूसरे जूनियर बच्चों की रैगिंग कर रहा है। आरोप है कि जूनियर स्टूडेंट्स से बर्तन साफ करने के साथ खाना बनाने और प्रिंसिपल और अन्य को खाना परोसने का काम भी जूनियर्स से जबरन करवाया गया। हालांकि कॉलेज प्रशासन ने ऐसा नहीं होना बताया है।
इस वीडियो को सामने आने के बाद जब मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल से बात की गई। उन्होंने कहा कि मेस में बनने वाले खाने को लेकर बच्चों की खाने की शिकायत रहती थी, जिसके बाद अब बच्चों को मेस का इंचार्ज बना दिया गया है। जो बच्चे चाहते हैं वही खाना बनता है। जिससे बच्चों की खाने की शिकायत भी नहीं रहती। वायरल वीडियो में बर्तन साफ करने काे लेकर प्रिंसिपल का कहना है कि बच्चे अगर खुद खाना खाकर अपने बर्तन खुद बर्तन साफ़ करते हैं तो इसमें बुराई क्या है। हम घर पर भी खाना खाकर खुद ही बर्तन साफ़ करते हैं। इसलिए अगर बच्चे भी अपने बर्तन खुद साफ़ कर रहे हैं तो इसमें बुराई क्या है।
वहीं इस वीडियो को लेकर जूनियर्स की रैगिंग की बात भी कही जा रही है। आपको बता दें की मेडिकल कॉलेज में 2 साल पहले भी रैगिंग की खबर सामने आई थी। तब सीनियर स्टूडेंट्स ने जूनियर बच्चों को शारीरिक यातनाएं दी थी। वैसी ही एक तस्वीर एक बार फिर से सामने आई है जिसमें दो कुछ स्टूडेंट बर्तन मांझ रहे हैं और एक सीनियर उनके पास खड़ा है।