मुरादाबाद में दबंगों ने वाल्मीकि परिवार को पीटा, पुलिस ने पीड़ित पर ही दर्ज की एफआईआर,'घर बिकाऊ है' के पोस्टर


मुरादाबाद। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार कानून व्यवस्था सुधारने के लाख भले ही बड़े वादे क्यों न कर ले, लेकिन कुछ पुलिसकर्मी दबंगों से मिलकर कानून व्यवस्था चौपट करने में हमेशा लगे रहते हैं। ताजा मामला मुरादाबाद जिले से सामने आया है। जहां दबंगों और पुलिस से परेशान होकर पीड़ित परिवार पलायन करने को मजबूर है।
कार्रवाई की बजाय उल्टा पीड़ित पर पुलिस ने बनाया दबाव
मामला जिला मुरादाबाद जिले के मूंढापांडे थाना क्षेत्र के बीरपुर वरियार से सामने आया है। कुछ दिन पहले पतंग को लेकर हिंदू-मुस्लिम दो पक्षों में विवाद हो गया था। जिसमें दूसरे पक्ष के लोगों ने पतंग के विवाद को लेकर दलित परिवार के घर में घुसकर युवक और उसके परिजनों को बुरी तरह से पीटकर गंभीर रूप से घायल कर दिया था। जिसमें दलित परिवार के रोहित को गंभीर चोटें आई थीं। घायल युवक को पास के निजी अस्पताल में उपचार के लिए पीड़ित परिवार ने भर्ती कराया था। दलित परिवार जब मूंढापांडे थाना परिसर में दबंगों के खिलाफ तहरीर देने पहुंचे तो मूंढापांडे थाना अध्यक्ष ने दलित परिवार पर उल्टा ही दबाव बनाना शुरू कर दिया और बुरा भला कहकर दलित परिवार को भगा दिया।
पीड़ित को पुलिस करने लगी परेशान
आरोप है कि दूसरे पक्ष के लोगों ने थाने में पहुंचकर के दलित परिवार के खिलाफ पुलिस से मिलीभगत कर तहरीर देकर उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज करा दिया। जिसमें पुलिस ने दलित परिवार को धमकाना और दलित परिवार के घर पर पुलिस ने दबिश देना शुरू कर दिया। जिससे दलित परिवार ने दबंगों के डर से और पुलिस की कार्रवाई के डर से पलायन करने को मजबूर हो गए हैं और घर के बाहर ये मकान बिकाऊ है के पोस्टर लगा दिए हैं।
पुलिस पर गंभीर आरोप
पीड़ित परिवार का साफ तौर पर यह कहना है कि हमें गांव के दबंग लोगों से डर बना हुआ है और वह लोग हमारे ऊपर हमला करने को तैयार रहते हैं। जिससे हमें अपने परिवार और अपनी जान का खतरा बना हुआ है। पीड़ित परिवार ने पुलिस पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा है कि पुलिस हमारे ही परिवार के लोगों को जेल भेजने की बात कह रही है। जिसमें मूंढापांडे थाना अध्यक्ष ने दबंग लोगों से मिलकर हमारे परिवार पर मामला दर्ज किया है। वहीं, पीड़ित परिवार के ज्ञान सिंह ने पूरी घटना की जानकारी एसएसपी और सीएम पोर्टल पर शिकायत कर मदद की गुहार लगाई है।
मूंढापांडे थानाध्यक्ष का यह कहना है कि झगड़ा पतंग का नहीं है। अमरूद की बगिया में अमरूद तोड़ने को लेकर हुआ था। जिसमें वाल्मीकि परिवार के लड़कों ने दूसरे पक्ष के लड़कों के साथ मारपीट की थी। वादी की शिकायत पर उनका पर मुकदमा पंजीकृत है। यह लोग पुलिस क्रॉस मुकदमा करना चाहते हैं। इसलिए पुलिस पर झूठे आरोप लगा रहे हैं।