पूर्वी दिल्ली के पांडव नगर थाने के भीतर होमगार्ड के जवान ने लगाई फांसी, परिजनों ने एसएचओ पर लगाए गंभीर आरोप


पूर्वी दिल्ली। पूर्वी दिल्ली स्थित पांडव नगर थाने के भीतर दिल्ली होमगार्ड के जवान ने फांसी लगाकर जान दे दी। मृतक की शिनाख्त बृजलाल (46) के रूप में हुई है। उसका थाने के दूसरी मंजिल स्थित एक कमरे में पंखे से लटका मिला। सोमवार सुबह बृजलाल ड्यूटी पर थाने आया था। इसके कुछ ही देर बाद उसने फांसी लगा ली। मृतक के परिजनों ने थाना प्रभारी पर प्रताड़ित करने के गंभीर आरोप लगाए हैं।
घटना की जानकारी मिलते ही जिले के वरिष्ठ पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंच गए। क्राइम टीम के अलावा एफएसएल की टीम ने घटना स्थल से सक्ष्य जुटाए। जिला पुलिस उपायुक्त प्रियंका कश्यप ने बताया कि मेडिकल बोर्ड से बृजलाल का पोस्टमार्टम करवाया जा रहा है।
मामले की जांच के आदेश दे दिए गए हैं। थाने के बाकी पुलिस कर्मियों से पूछताछ करने के अलावा सीसीटीवी फुटेज से भी मामले की जांच की जा रही है। वहीं सूत्रों का दावा है कि बृजलाल के पास से एक सुसाइड नोट बरामद हुआ है, जिसमें उसने थाना प्रभारी पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है। वरिष्ठ पुलिस अधिकारी इसकी पुष्टि नहीं कर रहे थे।
जानकारी के अनुसार मूलरूप से गांव नेगपुर, खुर्जा, बुलंदशहर का रहने वाला बृजलाल पिछले करीब 15-16 साल से किराए के मकान में मयूर विहार की राजबीर कालोनी, ए-ब्लॉक, गली नंबर-4 में रहता था। इसके परिवार में पत्नी किरण के अलावा तीन बेटी नेहा, निशा, नीतू और एक 10 साल का बेटा चाहत है।
बृजलाल करीब पांच साल से पांडव नगर थाने में अपनी सेवाएं दे रहे थे। बृजलाल के भतीजे कुलदीप ने बताया कि पहले सब कुछ ठीक चल रहा था। लेकिन पिछले छह-सात माह से बृजलाल बेहद परेशान थे। वह हमेशा आरोप लगाते थे कि उनका नया एसएचओ उनके साथ गाली-गलौज करने के अलावा हमेशा डांटता रहता है।
यही बात किरण भी रोते-रोते कहे जा रही थी। सोमवार सुबह बृजलाल ड्यूटी के लिए थाने पहुंच गए। सीसीटीवी में वह 8.05 बजे थाने में प्रवेश करते हुए दिख रहे हैं। इसके बाद करीब 10.17 बजे थाने के एक जवान ने दूसरी मंजिल स्थित कमरे में बृजलाल को पंखे से लटके हुए देखा। मामले की सूचना वरिष्ठ अधिकारियों को दी गई।
इसके बाद बृजलाल के परिवार को भी कॉल कर खबर दे दी गई। थाने के सूत्रों का दावा है कि थाना प्रभारी बृजलाल को बुरी तरह डांटते रहते थे। इस बात से वह परेशान था, सोमवार को ड्यूटी पर आने के बाद भी उसे डांटा गया था।
सूत्रों का कहना है कि इससे हताश होकर उसने फांसी लगाई। हालांकि जिला पुलिस उपायुक्त पर कुछ भी बोलने को तैयार नहीं हैं। उनका कहना है कि मामले की जांच की जा रही है। जांच के बाद तथ्यों के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। शव को एलबीएस अस्पताल से जीटीबी अस्पताल मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम करवाने के लिए भेज दिया गया था।