आगरा से मथुरा लाया गया प्रतिबंधित पशु का मांस,गौरक्षक दल के कार्यकर्ताओं ने किया हंगामा, तीन आरोपी गिरफ्तार


मथुरा। उत्तर प्रदेश के मथुरा के थाना गोविंद नगर इलाके के महाविद्या कॉलोनी के इलाके में महाविद्या कुंड के पास प्रतिबंधित मांस से भरी एक गाड़ी को गौरक्षक दल के कार्यकर्ताओं ने पकड़ लिया। इस दौरान गौसेवकों ने जमकर हंगामा काटा। मामले की सूचना पर पहुंची पुलिस ने तीन लोगों को हिरासत में लेकर जांच शुरू कर दी है। वहीं गौसेवकों का आरोप है कि सूचना के 2 घंटे बाद भी पुलिस मौके पर नहीं पहुंची।
जिले के थाना गोविंद नगर क्षेत्र के अंतर्गत महाविद्या कुंड के पास बुधवार को प्रतिबंधित पशु के मांस से भरी एक गाड़ी को पकड़ा गया है। मांस ले जा रहे 2 लोगों को घटनास्थल पर मौजूद भीड़ ने पकड़ लिया। मामले की सूचना डायल 112 और इलाका पुलिस को दी गई। घटना की सूचना पर पहुंची पुलिस ने मौका ए वारदात से 3 लोगों को हिरासत में लिया और थाने ले आई। गौरक्षक दल के कार्यकर्ताओं के द्वारा बताया गया कि आगरा से चलकर एक ईको कार मथुरा पहुंची। इस कार में प्रतिबंधित पशु का भारी तादात में मांस भरा हुआ था। कार्यकर्ताओं ने बताया कि करीब 2 घंटे पहले पुलिस को सूचना दी गई लेकिन पुलिस 2 घंटे बाद घटनास्थल पर पहुंची। गाड़ी में तकरीबन 1 क्विंटल मीट बरामद हुआ है।
वहीं पकड़े गए मांस की जानकारी जब थाना प्रभारी निरीक्षक गोविंद नगर विजय कुमार से बात की तो उन्होंने बताया कि गौरक्षक दल और बजरंग दल के लोगों ने गाड़ी पकड़ी थी। उसमें भैंस का मांस भरा हुआ था। पकड़े गए अयूब और मौसम नाम के दो युवकों के पास से मीट बेचने का लाइसेंस प्राप्त हुआ है। वहीं जब उनसे ये सवाल किया कि गौसेवकों ने प्रतिबंधित पशु का मांस बताया है तो उन्होंने काम में व्यस्त होने की बात कहकर फोन रख दिया। वहीं दूसरी ओर पुलिस मांस की जांच कराने के बाद कार्रवाई की बात कह रही है।
श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर्व पर 30 अगस्त को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा मथुरा को तीर्थ स्थल घोषित कर मांस एवं शराब की बिक्री प्रतिबंधित करने की घोषणा की गई थी। मांस की बिक्री को प्रतिबंधित कर दिए जाने के बाद भी तीर्थ स्थल इलाके में मांस की तस्करी बरकरार जारी है। स्थानीय पुलिस मथुरा को तीर्थ स्थल क्षेत्र घोषित होने के बाद भी मांस की तस्करी रोकने में नाकाम साबित हो रही है।