गाजियाबाद में आवास-विकास कार्यालय के सामने जिंदा समाधि लेने की कोशिश में किसान


सूर्य प्रकाश,(गाजियाबाद)। गाजियाबाद के मंडोला आवास विकास के खिलाफ बढ़े मुआवजे की मांग को लेकर कई गांव के किसान दो दिसंबर 2016 से धरना प्रदर्शन करते आ रहे हैं। हालांकि यह प्रदर्शन बुधवार(15 सितंबर) को जिंदा समाधि लेने तक जा पहुंचा।
बुधवार को मंडोला समेत छह गांव के 17 किसानों ने किसान नेता मनवीर तेवतिया के नेतृत्व में धरनास्थल आवास विकास कार्यालय के सामने जिंदा समाधि ली। किसानों ने 10 दिन पूर्व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नाम एसडीएम लोनी शुभांगी शुक्ला को ज्ञापन सौंपकर किसानों की मांग पूरी करने की चेतावनी दी थी।
किसानों ने 14 सितंबर तक प्रशासन को समय दिया था। मंगलवार को प्रशासनिक अधिकारियों ने किसानों से बैठक कर समाधि नहीं लेने को लेकर बैठक की थी। लेकिन किसानों ने प्रशासनिक अधिकारियों का प्रस्ताव ठुकरा दिया। किसान नेता नीरज त्यागी का कहना है कि करीब 5 साल से कई बार वार्ता हुई है लेकिन किसानों का समाधान नहीं हुआ है। समाधि लेने के दौरान पुलिस और प्रशासन की टीम मौके पर पहुंची।