प्रॉपर्टी डीलर को पहले गोली मारी, फिर वीडियो बनाती भीड़ के सामने बेरहमी से चाकू से गोदा


  • गोली मारने के बाद प्रॉपर्टी डीलर पर चाकुओं से 15 बार गोदकर हत्या की
  • परिजनों ने दो प्रॉपर्टी डीलरों पर जताया शक, दोनों से चल रहा था विवाद
  • मौके पर लोग विडियो बनाते रहे, पर किसी ने बचाने की कोशिश नहीं की
राजीव गौड़(दिल्ली ब्यूरो)। द्वारका के डाबड़ी की 40 फुटा रोड पर मंगलवार शाम को भीड़ के बीच में एक प्रॉपर्टी डीलर को गोली मारने के बाद बदमाशों ने उस पर चाकू से कई बार किए। जब बदमाशों को लगा की प्रॉपर्टी डीलर की मौत हो गई तो वह पिस्टल लहराते हुए भीड़ के बीच में फरार हो गए। मामले की सूचना मिलने के बाद डाबड़ी थाने से पुलिस टीम मौके पर पहुंची। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा। डाबड़ी थाने में मामला दर्ज कर मामले की जांच चल रही है। पुलिस के अनुसार दो आरोपियों की पहचान हो चुकी है।
डीसीपी द्वारका संतोष कुमार मीणा ने बताया कि चमन अपने परिवार के साथ डाबड़ी में रहते थे। चमन फाइनैंसर और प्रॉपर्टी डीलर थे। परिवार में पत्नी और दो बच्चे हैं। चमन का ऑफिस डाबड़ी की 40 फुटा रोड पर है, जहां मंगलवार शाम को वह अपने ऑफिस के बाहर कुर्सी डालकर बैठे हुए थे। उसी समय दो बदमाश आए और चमन को गोली मार दी। गोली की आवाज सुनकर मौके पर भीड़ जमा हो गई। इसी दौरान आरोपियों ने चाकू से चमन पर कई वार किए। भीड़ के सामने आरोपियों ने करीब 15 बार चाकू से वार किए और पिस्तौल लहराते हुए फरार हो गए। भीड़ में से ही एक युवक ने मामले की सूचना पुलिस को दी। सूचना मिलने के बाद डाबडी थाने की पुलिस टीम मौके पर पहुंची और चमन को अस्पताल पहुंचाया। जहां उसकी मौत हो गई।
पुलिस ने मृतक के परिजनों से पूछताछ की और घटनास्थल के पर लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज जब्त कर छानबीन शुरू कर दी है। पुलिस की प्राथमिक जांच के दौरान सामने आया है कि चमन का डाबड़ी के ही दो अन्य प्रॉपर्टी डीलर से झगड़ा चल रहा था। झगड़े में कई बार दोनों पक्षों की हाथापाई हो चुकी थी। दोनों अपने घरों से फरार बताए जा रहे हैं। ऐसे में पुलिस उनकी तलाश में छापेमारी कर रही है।
पुलिस अधिकारी ने बताया कि आरोपियों ने चमन पर पहले गोली मारी और फिर चाकू से हमला कर दिया। आरोपियों ने चमन पर एक के बाद एक 15 वार किए। ज्यादातर वार गर्दन और छाती पर किए गए हैं। मौके पर जमा लोग घटना को देखते रहे और विडियो बनाते रहे, लेकिन किसी ने चमन को बचाने की कोशिश नहीं की। वारदात के बाद आरोपी पिस्तौल लहराते हुए भीड़ के बीच से निकल गए। उनके जाने के बाद मामले की सूचना पुलिस को दी गई।