साड़ी को स्मार्ट ड्रेस कोड नहीं बताने वाले रेस्टोरेंट के बाहर प्रदर्शन, रेस्तरां ने माफी मांगी


दिल्ली ब्यूरो। खेल गांव स्थित एक रेस्टोरेंट में महिला को साड़ी पहने होने की वजह से एंट्री नहीं देने के मामले में एबीवीपी ने रेस्टोरेंट में जाकर प्रदर्शन किया। 19 सितंबर को दिल्ली के अंसल प्लाजा मॉल स्थित ऐक्विला रेस्टोरेंट का यह मामला है, जहां रेस्टोरेंट की एक महिला मैनेजर ने दूसरी महिला को यह कहकर रेस्टोरेंट में जाने की इजाजत नहीं दी कि साड़ी स्मार्ट कैजुअल ड्रेस कोड में नहीं आती है।
गुरुवार को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की कार्यकर्ता साड़ी पहनकर रेस्टोरेंट में गईं और प्रदर्शन किया। एबीवीपी ने कहा कि भारतीय परिधान को विदेशी पोशाकों के सामने कम आंकने के साथ-साथ यह भारतीय परंपरा का भी अपमान है। वहीं, महिला की ओर से एक विडियो भी वायरल हुआ है, जिसमें साड़ी को वजह बताते हुए उन्हें अंदर जाने से मना किया जा रहा है। वहीं, ऐक्विला रेस्टोरेंट की ओर से बुधवार रात एक बयान जारी कर कहा गया है कि महिला ने उनके स्टाफ के झगड़ा किया, क्योंकि उन्हें रेस्टोरेंट के अंदर जाने के लिए इंतजार करने को इसलिए कहा गया था क्योंकि उनके नाम पर रिजर्वेशन नहीं था। रेस्टोरेंट ने अपने बयान में इसे मानते हुए माफी मांगी है और कहा है कि मैनेजर ने ऐसा इसलिए कहा ताकि महिला वहां से जा सके और स्थिति को संभाला जा सके।
रेस्टोरेंट ने अपना बयान ट्वीट कर कहा कि जब तक उनका स्टाफ यह तय कर रहा था कि उन्हें कहां सीट दी जाए, तब तक महिला अंदर घुस गई और उन्होंने उनके मैनेजर को थप्पड़ तक मार दिया। रेस्टोरेंट ने इसके सबूत में एक सीसीटीवी फुटेज भी जारी किया है। रेस्टोरेंट ने यह भी कहा है कि उनके वहां कई महिलाएं साड़ी पहनकर आती हैं और एथनिक वेयर को लेकर हमारी ऐसी कोई पॉलिसी नहीं है। एबीवीपी की प्रांत छात्रा प्रमुख वैलेंटीना भ्रम्मा ने कहा कि रेस्टोरेंट में महिला को अंदर जाने पर सिर्फ इसीलिए रोका गया, क्योंकि उन्होंने साड़ी पहनी थी। यह बहुत निंदनीय है और एबीवीपी सरकार से ऐसे रेस्टोरेंट के खिलाफ कड़ी करवाई करने की मांग करती है। एबीवीपी का कहना है कि प्रदर्शन के बाद रेस्टोरेंट मैनेजर ने माफी मांगी।