बुलंदशहर में तमंचा फैक्ट्री का भंडाफोड़, राइफल और तमंचे के साथ दो लोग गिरफ्तार


बुलंदशहर। यूपी के बुलंदशहर जिले की अरनिया थाने की पुलिस ने ट्यूबवेल में चल रही अवैध असलहा बनाने की फैक्ट्री का भंडाफोड़ किया है। पुलिस ने फैक्ट्री से फायरिंग की घटना में शामिल 2 लोगों को गिरफ्तार किया है, जबकि 3 लोग फरार हो गए। पुलिस ने मौके से दो राइफल, पांच तमंचे 12 कारतूस व अवैध असलहे बनाने के उपकरण बरामद किए हैं।
अरनिया थाना क्षेत्र के गांव नगला अरनिया में 2 दिन पूर्व वीरेंद्र व देवेंद्र का शराब के नशे में गांव के ही सौरभ, दुर्गापाल, बृजपाल आदि के साथ मामूली बात को लेकर विवाद हो गया था। विवाद के बाद हमलावरों ने वीरेंद्र व देवेंद्र को गोली मारकर घायल कर दिया था। इसके बाद पुलिस ने 8 हमलावरों के खिलाफ मामला दर्ज किया था। अरनिया थाना पुलिस हमलावरों की तलाश में जुटी थी कि पुलिस के हत्थे मुकेश के ट्यूबवेल में चल रही अवैध असलहों की फैक्ट्री चढ़ गई।
ट्यूबवेल में चल रही थी तमंचा फैक्ट्री
एसएसपी संतोष कुमार सिंह ने बताया कि वीरेंद्र व देवेंद्र को गोली मारकर घायल करने के आरोपी सौरभ पुत्र राजन व दुर्गपाल पुत्र सौदान को मुकेश आदि की ट्यूबवेल पर पकड़ने के लिए पुलिस ने घेराबंदी की, तो ट्यूबवेल पर अवैध हथियार बनाते पाए गए। पुलिस ने सौरभ व दुर्गपाल को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि अवैध हथियारों की फैक्ट्री चलाने वाले तीन अन्य आरोपी पुलिस को देख फरार हो गए। 5 अधबने तमंचे, 12 कारतूस और हथियार बनाने के उपकरण बरामद किए हैं।
पुलिस ने गिरफ्तार आरोपियों को जेल भेज दिया है। एसएससी के मुताबिक पुलिस की गिरफ्त में आए सौरभ और दुर्गपाल अवैध तमंचा बनाते थे। सौरभ के फरार साथी भी हथियारों के सौदागर थे जो 5000 तक की कीमत में तमंचा बेच रहे थे।