मथुरा में शराब और मांस की बिक्री पर रोक लगाने की तैयारी, सीएम योगी ने किया ऐलान


मथुरा। जन्माष्टमी के मौके पर कृष्ण नगरी मथुरा पहुंचे सीएम योगी ने एक बड़ी घोषणा की है। सीएम योगी ने कहा है कि मथुरा में मांस और मदिरा की बिक्री पर पूरी तरह से रोक लगाई जाएगी। इसका उद्देश्य यहां की आध्यात्मिक और सांस्कृतिक विरासत को बचाना है। सीएम योगी सोमवार को मथुरा में कृष्ण जन्माष्टमी के उत्सव में हिस्सा लेने के लिए गए थे। सीएम योगी ने कहा कि जिला प्रशासन को इस संबंध में निर्देश दिए गए हैं कि वह मांस-मदिरा की बिक्री को बंद कराने के लिए जरूरी कार्ययोजना बनाए। सीएम ने कहा कि जो लोग इस काम में लगे हैं, उनके पुनर्वास का इंतजाम भी किया जाएगा।
जन्माष्टमी कार्यक्रम में शामिल हुए सीएम
श्री कृष्ण जन्माष्टमी में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मथुरा में आयोजित जन्माष्टमी कार्यक्रम में शामिल हुए। यहां उन्होंने रामलीला ग्राउंड पर आयोजित श्रीकृष्णोत्सव में शिरकत करने के साथ मंच से लोगों को संबोधित करते हुए सभी को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की बधाई और शुभकामनाएं दीं। इसके बाद वह पूजा में शामिल हुए। उन्होंने कहा कि इस पवित्र दिन ही भगवान श्रीकृष्ण करीब 6000 वर्ष पूर्व इस पावन धरा पर अवतरित हुए थे। उन्होंने बताया कि वर्ष 2020 में कोरोना के चलते कार्यक्रम आयोजित नहीं हो सका था।
इस वर्ष महामारी पूरी तरह नियंत्रण में है लेकिन सुरक्षा जरूरी है। कोरोना ने पूरे देश के साथ विश्व में कोहराम मचाया है। जैसे बिहारीजी ने अनेक राक्षसों का अंत किया था। वैसे ही कोरोना को भी अंत करने की कृपा करें। उन्होंने कहा कि अभी फिरोजाबाद से आया हूं। वहां कई बच्चे डेंगू से अकाल मृत्यु को प्राप्त हुए हैं। वहीं मथुरा में भी बच्चों की मृत्यु की जानकारी मिली है। उनके परिवारों के साथ मेरी संवेदना है। बीमारी में लापरवाही हमेशा खतरनाक होती हैं। इसलिए सतर्कता और जागरूकता बेहद जरूरी है।
इस दौरान सीएम योगी ने कहा कि देश और प्रदेश में विकास के साथ सांस्कृतिक और धार्मिक पहचान के लिए कोशिश की जा रही हैं। अयोध्या में विशाल राम मंदिर निर्माण चल रहा है। आजादी के बाद रामनाथ कोविंद पहले राष्ट्रपति और नरेंद्र मोदी प्रथम प्रधानमंत्री हैं जिन्होंने अयोध्या जाकर पहली बार रामलला के दर्शन किए। जो राजनेता पहले मंदिर जाने में घबराते थे, अब वह भी श्रीराम को अपना बता रहे हैं। उन्होंने कहा कि हिंदू त्योहारों पर बीजेपी को छोड़कर अन्य दलों के नेता नहीं आते थे। अलर्ट जारी होता था कि रात्रि में कार्यक्रम नहीं होंगे। हमारे कान्हा तो रात्रि में 12 बजे ही जन्म लेते हैं। सीएम ने कहा कि हमें अब धार्मिक धरोहरों को संरक्षित करना चाहिए।