इंदौर में एसपी का फरमान, सरकारी गाड़ी से घर नहीं आएंगे और जाएंगे थानेदार


इंदौर,(मध्य प्रदेश)। पश्चिम क्षेत्र एसपी महेश चंद जैन की तरफ से हाल ही में जारी एक आदेश चर्चाओं का कारण बना हुआ है। नए आदेश में एसपी साहब ने थाना प्रभारियों को घर से थाने और थाने से घर आने-जाने में शासकीय वाहनों का उपयोग नहीं करने की बात कही है। उनका यह आदेश भी चर्चाओं में है। इससे पहले एसपी महेश चंद चैन ने पुलिसकर्मियों को केला खिलाने के आदेश दिए थे। बाद में उन्हें वापस लेने पड़े थे।
वहीं, एसपी के आदेश पर कुछ थाना प्रभारियों का कहना है कि थाने से घर और घर से थाने आने जाने के बीच में कई बार उन्हें अपराधों की जानकारी मिलती है। तो वह तत्काल उन्हें कवर कर लेते हैं। साथ ही थाने के बाहर में वायरलेस सहित स्टॉफ आदि मौजूद होता है, जिससे किसी भी तरह के अपराध घटना दुर्घटना पर तत्काल एक्शन ले पाते हैं। अगर ऐसा नहीं होगा तो तत्काल कार्रवाई में दिक्कत आएगी।
दरअसल, इंदौर के पश्चिम एसपी महेशचंद्र जैन की तरफ से पूर्व में जारी कुछ आदेश भी चर्चाओं में रह चुके हैं। जिन्हें बाद में एसपी को निरस्त भी करना पड़ा था। इस बार भी लिखित आदेश जारी करते हुए पश्चिम के समस्त थाना प्रभारियों को निर्देश दिया गया है कि वे शासकीय वाहन का उपयोग घर जाते समय व घर से आते समय नहीं करेंगे। इस पर कुछ थाना प्रभारियों ने कहा कि थाना प्रभारी रात को अपने थाने से घर की ओर जाते हैं। घर लौटते वक्त काफी रात हो जाती है। घटनाएं रात में ज्यादा होती हैं। साथ ही रास्ते से जब गुजरते हैं तो कई अपराधी प्रवृत्ति के लोगों में भय रहता है। दुर्घटना या अन्य मामलों में पीड़ित को अस्पताल या थाने पहुंचाने के लिए जब कोई गाड़ी समय पर नहीं मिलती है तो पुलिस का वाहन ही काम आता है।
गौरतलब है कि एसपी साहब की तरफ से बीते महीने रोल कॉल में स्थानों पर पुलिस कर्मियों को केले बांटने के लिखित आदेश जारी किए थे। यह आदेश काफी चर्चा में रहे थे। पुलिस मुख्यालय स्तर की नाराजगी के बाद एसपी को यह आदेश निरस्त करने पड़े थे। इसके अलावा भी एसपी के कुछ आदेश चर्चा में रहे हैं। अब एक बार फिर उनकी तरफ से जारी यह वाहनों के उपयोग संबंधी आदेश चर्चाओं का विषय बना हुआ है।