गोरखपुर के नटवरलाल ने 1.15 लाख में बेच दी राप्ती नदी


गोरखपुर। हैरान कर देने वाला मामला उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में सामने आया है। यहां एक शातिर ने गोरखपुर में बहने वाली राप्ती नदी को ही नीलाम कर दिया। कैंपियरगंज इलाके के ग्राम पंचायत गेरुई का रहने वाला शातिर खुद को मत्सय विभाग का अधिकारी बताकर जालसाज ने राप्ती नदी को ही नीलाम कर एक व्यक्ति से रुपए हड़प लिए। अब ग्राम प्रधान ने इसकी शिकायत एसडीएम से की है। एडीएम की ओर से मामले की जांच के आदेश भी दे दिए गए हैं। दरअसल, ग्राम पंचायत गेरुई खुर्द के ग्राम प्रधान चंद्रकला चौधरी ने एसडीएम कैंपियरगंज को दिए गए प्रार्थना पत्र में यह आरोप लगाया है कि उन्हीं के गांव का रहने वाला राजू यादव पुत्र श्रीराम उत्तर प्रदेश शासन का फर्जी पत्रांक दिखाकर खुद को मत्सय विभाग का अधिकारी बताता है। आरोप यह भी है कि इसके बाद उसने बिना किसी अधिकारी, प्रधान या सदस्य के फर्जी पत्रांक के जरिए राप्ती नदी को ही नीलाम कर दिया। इसके एवज में उसने उसी टोले के एक व्यक्ति से 1.15 लाख रुपए भी वसूकर हड़प लिए।
इतना ही नहीं, आरोपी राजू का दावा है कि उसे मत्सय विभाग ने इसका अधिकार दिया है। ग्राम प्रधान की शिकायत पर एसडीएम कैंपियरगंज ने इसकी मत्सय विभाग से रिपोर्ट तलब कर जांच के आदेश दिए हैं। ताकि मामले में कार्रवाई की जा सके। ग्राम प्रधान चंद्रकला चौधरी के मुताबिक आरोपित राजू यादव एक शातिर किस्म का अपराधी है। उसके खिलाफ थाने में एक नहीं बल्कि कई संगीन धाराओं में केस भी दर्ज हैं। आरोप है कि बावजूद इसके अब तक उसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई। डीएम विजय किरन आनंद ने बताया कि फिलहाल मामला संज्ञान में नहीं है। अगर एडीएम को शिकायत मिली है तो संबंधित विभागों से आख्या लेकर इसकी जांच कराकर कार्रवाई के निर्देश दिए जाएंगे।