द्वारका में अंतरराष्ट्रीय ड्रग रैकेट का भंडाफोड़, 13 करोड़ की हेरोइन जब्त



राजीव गौड़,(दिल्ली ब्यूरो)। रूस के रास्ते हेरोइन की तस्करी करने वाले तीन घुसपैठिये नाइजीरियन को द्वारका जिले के एंटी नार्कोटिक्स सेल ने गिरफ्तार किया है। पुलिस के अनुसार, इनके तार कुछ हाई प्रोफाइल पार्टियों और क्लबों से जुड़े हो चुके हैं। इसे लेकर जांच जारी है। इन तीनों के पास से 13 करोड़ की हेरोइन और 4 किलो से अधिक मिलावटी केमिकल भी बरामद हुआ है।
द्वारका डीसीपी शंकर चौधरी ने बताया कि सब इंस्पेक्टर सुभाष चंद की एंटी नारकोटिक्स टीम ने इस गिरोह का भंडाफोड़ एसीपी ऑपरेशन विजय कुमार के नेतृत्व में किया है। इनके पास से फाइन क्वॉलिटी की 1 किलो 300 ग्राम हेरोइन बरामद की गई है। अंतरराष्ट्रीय मार्केट में इसकी कीमत करीब 13 लाख रुपये है। जांच में पता चला है कि यह हेरोइन अफ्रीकन कंटिनेंट से रूस के रास्ते स्मगल कर वाया बांग्लादेश और नेपाल से भारत पहुंची थी। पिछले कुछ दिनों से पुलिस को सूचना मिल रही थी कि इस इलाके में ड्रग्स की इंटरनैशनल तस्करी हो रही है। एक अक्टूबर को पुलिस टीम को सूचना मिली कि बड़ी मात्रा में कांट्राबेंड मोहन गार्डन में अफ्रीकन ले कर आ रहे हैं। इसके बाद पुलिस ने एरिया में ट्रैप बिछाया। करीब एक घंटे बाद स्कूटर पर दो अफ्रीकी पहुंचे। मुखबिर से इशारा मिलते ही पुलिस टीम ने इन्हें पकड़ लिया। इनके पास से एक किलो कांट्राबेंड और 500 ग्राम हेरोइन मिली। जिसके बाद मोहन गार्डन थाने में इनके खिलाफ मामला दर्ज किया गया।
प्राथमिक जांच में पता चला कि आरोपी हेनरी (41) और पीटर (37) ने 2019 में बांग्लादेश के रास्ते भारत में घुसपैठ की थी। इन्होंने बताया कि यह लोग रूस के रास्ते कांट्राबेंड मंगवाते हैं। ड्रग्स के बड़े वेंडर इनसे वर्चुअल नंबर से संपर्क करते हैं, जिसके बाद यह उन तक कांट्राबेंड पहुंचाते हैं। पूछताछ में इन्होंने एक अफ्रीकन वेंडर का वर्चुअल नंबर भी बताया। उसकी पहचान स्टेनले के रूप में हुई। स्टेनले ने मोहन गार्डन में एक ही घर में दो अलग अलग मंजिर पर दो कमरे किराये पर लिए हुए हैं। यहां वह ग्राउंड फ्लोर पर रहता है और ऊपरी मंजिल पर इसने ड्रग्स की फैक्ट्री लगा रखी है। पुलिस ने रेड कर स्टेनले को भी गिरफ्तार किया। स्टेनले के पास 300 ग्राम कांट्राबेंड बरामद हुई। पूछताछ में इसने बताया कि उसे यह कांट्राबेंड ड्रग अफ्रीका में रहने वाले एक वेंडर से मिली है। उसने बताया कि वह कांट्राबेंड ड्रग्स का बड़ा सप्लायर है। उसके काफी सारे ग्राहक है। वह कई कांट्राबेंड ड्रग्स जैसे कोकीन, हेरोइन, एमडी आदि में डील करता है। वह मोबाइल से वर्चुअल नंबर के जरिए वेंडरों से बातचीत करता है। उसके पास कई फोन है। गैंग की मुख्य सप्लाई पश्चिमी दिल्ली, मोहन गार्डन और उत्तम नगर में है।