135 लोगों को लगाया 7 करोड़ का चूना, 3 अरेस्ट, एक आरोपी के पास है ज्योतिष शास्त्र और वास्तुशास्त्र में पीएचडी की डिग्री


नई दिल्ली। मछली पालन, फूलों की खेती और औषधि वाले पौधों के कारोबार में इनवेस्ट कर बढ़िया रिटर्न का झांसा दिया गया। इसके जरिए 135 लोगों से करीब 7 करोड़ रुपये की ठगी की गई। आर्थिक अपराध शाखा ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। इनकी शिनाख्त गुड़गांव के राजेश कुमार लौरा (45), हिसार के रवि (28) और पंजाब के फजिल्का जिले के गजानंद कौशिक (41) के तौर पर हुई है। इनके खिलाफ 3 दिसंबर 2019 को मुकदमा दर्ज हुआ था। अडिशनल कमिश्नर आरके सिंह ने बताया कि पीड़ित मुकेश कुमार को सभी प्रॉडक्ट्स को विदेश में बेचकर मोटी कमाई का लालच दिया गया। इसके जरिए उनसे 52 लाख रुपये ऐंठ लिए गए। यह रकम मैसर्स स्टार ग्लोबल स्टार लिमिटेड और स्टार ग्लोबर स्टार पार्टनरशिप फर्म में लगवाई गई। लेकिन कंपनी वादे के मुताबिक पैसा लौटा नहीं सकी। कुछ समय बाद आरोपी रातों-रात अपना धंधा बंद कर फरार हो गए। इसके बाद 135 आरोपियों ने कंपनी के खिलाफ अपनी शिकायत दी। जांच में इन सबसे ठगी गई रकम करीब सात करोड़ रुपये सामने आई। जांच के बाद कंपनी से जुड़े लोगों में गजानंद कौशिक, रवि, राजेश कुमार लौरा और उत्प्रेक्षा के नाम सामने आए। पुलिस टीम ने इन सभी को गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों के खिलाफ दूसरे राज्यों में पांच और मुकदमे दर्ज हैं। पूछताछ में पता चला कि आरोपी पुलिस में शिकायत होने के बाद से ही फरार हो गए थे। काफी छानबीन कर पता चला कि आरोपी रवि और गजानंद कौशिक उदयपुर सेंट्रल जेल में बंद हैं। दोनों को वहां से 8 अक्टूबर को अरेस्ट कर लिया। दोनों को रिमांड पर लेकर तीसरे आरोपी राजेश कुमार लौरा को हिसार से पकड़ लिया गया। आरोपी राजेश कुमार लौरा इस घोटाले का मास्टरमाइंड है। वह हिसार से ग्रैजुएट है। इसने गजानंद कौशिक और रवि समेत अन्य की मदद से लोगों को पैसा इनवेस्ट करने के लिए उकसाया था। आरोपी गजानंद कौशिक पंजाब से ज्योतिष शास्त्र और वास्तुशास्त्र में पीएचडी है, जबकि रवि अनपढ़ है। पुलिस ने पूरे मामले की छानबीन कर रही है।