असम से ट्रांसफर प्रयागराज हुआ तो निकल पड़े साइकल से, तय की 1540 किलोमीटर की यात्रा


मिर्जापुर। यूपी के मिर्जापुर जिले के रहने वाले वायु सेना में तैनात विंग कमांडर संतोष दुबे सड़क सुरक्षा और पर्यावरण को सुरक्षित रखने के संकल्प को लेकर लोगों के बीच जागरूकता का संदेश देने के लिए असम से प्रयागराज तक की साइकल यात्रा पर निकले हैं। यह दूरी 1540 किलोमीटर है। शनिवार दोपहर को मिर्जापुर में पहुंचने पर जोरदार स्वागत और अभिनंदन किया गया।
15 40 किलोमीटर की यात्रा पूरी कर पहुचे मिर्जापुर
मिर्जापुर जिले के रहने वाले विंग कमांडर असम के जोरहाट में पोस्टेड थे। सड़क सुरक्षा और पर्यावरण के संदेश को लोगों के बीच पहुचानें के लिए इन्होंने अपनी यात्रा की शुरुआत 2 अक्टूबर को थी। विंग कमांडर संतोष दुबे ने साइकिल से 1540 किलोमीटर की अपनी यात्रा के बीच लोगों को पर्यावरण को बचाने का संदेश भी लोगों के बीच दिया है। मिर्जापुर पहुचने पर उनका स्थानीय लोगों ने भव्य स्वागत किया। इसके बाद वह प्रयागराज की ओर रवाना हो गए और शाम को प्रयागराज पहुंच गए। मिर्जापुर जिलें के कुरकुटिया गांव के रहने वाले विंग कमांडर संतोष दुबे 19 वर्ष की आयु में उनकी पहली पोस्टिंग मद्रास में हुई थी। उसके के बाद वह वायु सेना में विंग कमांडर पद पर तैनात हुए। अभी वर्तमान में असम के जोरहाट में तैनात थे। जोरहाट से इनकी पोस्टिंग प्रयागराज हो गई है। पोस्टिंग प्रयागराज होने पर संतोष दुबे साइकिल से ही सड़क सुरक्षा व स्वास्थ्य और पर्यावरण का संदेश लेकर निकल पड़े।
देश के खिलाड़ियों के नाम समर्पित की अपनी यात्रा
संतोष दुबे ने कहा कि हर व्यक्ति को सप्ताह में 2 दिन साइकिल जरूर चलाना चाहिए। साथ ही छोटे कामों के लिए उनको साइकिल का इस्तेमाल करना चाहिए जिससे प्रदूषण से बचा जा सकें और बाइक चलाते समय हेलमेट जरूर लगाना चाहिए जिससे दुर्घटना को रोका जा सके। उन्होंने अपनी इस यात्रा को देश के खिलाड़ियों के प्रति समर्पित किया।