वैक्सीन नहीं लगवाने वाले दिल्ली सरकार के कर्मचारी 16 अक्टूबर से नहीं कर पाएंगे काम


  • दिल्ली सरकार का कड़ा फैसला, 16 से दफ्तर नहीं आ सकेंगे अनवैक्सीनेटेड सरकारी कर्मचारी
  • डीडीएमए की तरफ से जारी आदेश में कहा गया है कि टीके की कम से कम एक खुराक लेने वाले ही कर पाएंगे काम
  • वैक्सीन नहीं लगवाने वाले कर्मचारियों को 16 अक्टूबर से पहली खुराक लेने तक छुट्टी पर माना जाएगा
दिल्ली ब्यूरो। दिल्ली डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी ने शुक्रवार को एक आदेश में कहा कि दिल्ली सरकार के उन कर्मचारियों को 16 अक्टूबर से कार्यालय आने की अनुमति नहीं दी जाएगी जिन्होंने कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीन की कोई खुराक नहीं ली है। आदेश में कहा गया है कि टीके की खुराक न लेने वाले शिक्षकों और फ्रंटलाइन वर्कर्स समेत दिल्ली सरकार के सभी ऐसे कर्मचारियों को तब तक ‘छुट्टी पर’ माना जाएगा जब तक कि वह टीके की खुराक नहीं ले लेते। इस बीच सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि बच्चों को टीका लगवाए बिना स्कूल नहीं खोले जाने चाहिए। इसमें कहा गया है, ‘जिन कर्मचारियों ने 15 अक्टूबर तक टीके की कम से कम पहली खुराक नहीं ली है उन्हें 16 अक्टूबर से तब तक उनके कार्यालय/स्वास्थ्य देखभाल संस्थान/शैक्षणिक संस्थान आने नहीं दिया जाएगा जब तक कि वे टीके की पहली खुराक नहीं लेते।’
आदेश के अनुसार, संबंधित विभागों के प्रमुख आरोग्य सेतु ऐप या टीकाकरण प्रमाणपत्र के जरिए टीके की खुराक लेने वाले कर्मचारियों का सत्यापन करेंगे। दिल्ली के मुख्य सचिव विजय देव की तरफ से जारी आदेश में कहा गया है कि केंद्र सरकार ‘दिल्ली में काम कर रहे अपने कर्मचारियों के बारे में भी इसी तरह के दिशा निर्देश जारी करने पर विचार कर सकती है।’