दिवाली से पहले नोएडा में यमुना एक्सप्रेसवे पर बढ़ेंगी 5 और फास्टैग लेन,10 सेकंड से ज्यादा का इंतजार करना पड़े तो टोल टैक्स फ्री


नोएडा ब्यूरो। यूपी के नोएडा में यमुना एक्सप्रेसवे पर फास्टैग की सुविधा का फिलहाल लोगों को कोई विशेष लाभ नहीं मिल पा रहा है। इसकी बड़ी वजह टोल बूथ पर सिर्फ दो लेन फास्टैग के लिए रिजर्व होना है। फास्टैग लेन पर अक्सर वाहनों की संख्या बढ़ जाती है, जिससे जाम की स्थित बन जाती है। लोगों को हो रही परेशानी को देखते हुए फास्टैग वाले वाहनों को निकलने के लिए लेन को बढ़ाया जा रहा है। दीपावली से पहले यमुना एक्सप्रेसवे पर 5 और फास्टैग लेन शुरू की जा रही हैं, जिसपर काम चल रहा है।
यमुना एक्सप्रेसवे के जेवर टोल प्लाजा पर दोनों ओर 15-15 टोल बूथ हैं। इनमें दो फास्टैग के लिए रिजर्व हैं और 13 कैश के लिए। फास्टैग के साथ कैश की 11 लेन चालू रहती हैं। ट्रैफिक बढ़ने पर सभी लेन को चालू कर दिया जाता है। इसकी वजह से कैश में टोल टैक्स देने वाले जल्द निकल जाते हैं, लेकिन फास्टैग वाले फंस जाते हैं।
जेवर से आगरा तक सभी टोल बूथ पर यही हाल है। त्यौहार और छुट्टियों के दिन के अलावा शनिवार शाम और सोमवार की सुबह सभी टोल बूथों को पार करने के लिए फास्टैग लगे वाहन को परेशानी होती है। कुछ बिना फास्टैग लगे वाहन भी फास्टैग की लाइन में घुस जाते हैं। इस कारण समस्या और बढ़ जाती है। यमुना एक्सप्रेसवे पर लगने वाले जाम से अब जल्द राहत मिलेगी।
छुट्टियों और त्यौहारों पर गुजरते हैं 40,000 से ज्यादा वाहन
छुट्टी और त्यौहार के मौकों पर टोल पर वाहनों की संख्या बढ़ने से जाम लग जाता है। यमुना एक्सप्रेसवे पर फास्टैग की अभी सिर्फ दो लेन हैं, जिनपर वाहनों का अधिक लोड है। एक्सप्रेसवे से हर रोज करीब 21 हजार वाहन गुजरते हैं, जिनमें से फास्टैग लगे वाहनों की संख्या करीब 50 प्रतिशत 10 से 11 हजार तक रहती है। वहीं, छुट्टियों और त्यौहार के दिनों में यह संख्या डबल 40 हजार तक हो जाती है। इस कारण भी एक्सप्रेसवे पर जाम लग जाता है। अब फास्टैग लगे वाहनों की संख्या 50 प्रतिशत तक होने के कारण फास्टैग की लाइन को बढ़ाया जा रहा है।
यमुना एक्सप्रेस वे पर हादसों को रोकने के लिए तेज रफ्तार वाहनों पर पकड़ तेज की जा रही है। ऐसे वाहनों के लिए जेवर टोल, मथुरा और आगरा टोल पर टाइम बूथ लगाए गए है। अभी जीरो पॉइंट पर टाइम बूथ नहीं लगे हैं, लेकिन जैसे ही वाहन जेवर टोल पर पहुंचता है वहां वाहन टाइम बूथ की पकड़ में आ जाता है। अगर कोई वाहन मथुरा में अपने तय समय से पहले पहुंच जाता है तो उसका चालान कट जाता है।
ऐसा ही मथुरा से आगरा तक होता है। वहीं, एक्सप्रेसवे पर जीरो पॉइंट से आगरा तक कैमरों की संख्या बढ़ा दी गई है। अगर एक्सप्रेसवे पर कोई वाहन तेज रफ्तार से दौड़ता है तो वह इन कैमरों की पकड़ में आ जाता है और इसका भी चालान कटता है।
एक छोड़कर सभी लेन होना फास्टैग
देश में एनएचएआई ने टोल प्लाजा के नियम में बदलाव करते हुए हाईवे पर यात्रा को सुविधाजनक बनाने के लिए फास्ट टैग सिस्टम को लागू किया था। फास्टैग सभी टोल बूथ पर अनिवार्य है फिर भी कई टोल बूथ पर सभी लेन में यह नहीं लगा है। नियमत: एक लेन छोड़कर टोलबूथ के सभी लेन में फास्टैग लगने चाहिए, लेकिन यमुना एक्सप्रेसवे के टोल बूथ पर अभी ऐसा नहीं है।
अब केंद्र सरकार ने टोल प्लाजा को लेकर एक नियम बनाया है जिसके मुताबिक अगर टोल प्लाजा पर किसी वाहन को 100 मीटर से ज्यादा लंबा जाम मिलता है तो वाहनों से टोल टैक्स नहीं वसूला जाएगा। इसके अलावा, अगर वाहनों को टोल टैक्स का भुगतान के लिए 10 सेकंड से ज्यादा का इंतजार करना पड़े तो इस स्थिति में भी टोल टैक्स फ्री कर दिया जाएगा। ऐसा इसलिए किया जा रहा है ताकि टोल प्लाजा पर ट्रैफिक के बढ़ने वाला जाम नहीं लगे और वाहनों की आवाजाही सामान्य गति से चलती रहे।
एक्सप्रेस वे पर आगरा तक नई टोल दरें
दोपहिया और तीन पहिया वाहनः 205 रुपये
कार, जीप, वैनः 415 रुपये
मिनी बस और एलसीवीः 645 रुपये
बस और ट्रकः 1310 रुपये
एचसीएम, ईएमई, एमएवीः 1995 रुपये