शाहदरा डीसीपी ऑफिस में तैनात पुलिसकर्मी से साइबर फ्रॉड, ठगो ने लगाया करीब 90 हजार का चूना


राजीव गौड़,(दिल्‍ली ब्यूरो)। बैंक के कस्टमर केयर स्टाफ होने का झांसा देकर शाहदरा डीसीपी ऑफिस में तैनात एक पुलिसकर्मी से ठगी करना जालसाजों को महंगा पड़ गया। जिले के साइबर सेल ने पांचों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों की शिनाख्त बुलंदशहर के अनीश खान (29), नोएडा के साहिल (23), संगम विहार के विकास उर्फ देवा (30), संदीप कुमार सिंह उर्फ रॉकी (35) और दक्षिणपुरी के हरीश तिवारी उर्फ आशु (29) के रूप में हुई। डीसीपी (शाहदरा) आर. सत्यसुंदरम ने बताया कि एक लैपटॉप, सात मोबाइल, पांच एटीएम कार्ड और एक बैंक की पासबुक बरामद हुई है। पूरन चंद (31) शाहदरा डीसीपी ऑफिस में बतौर सिपाही तैनात हैं। उन्होंने पुलिस को बताया कि 6 अक्टूबर को उनका एक्सिस बैंक का क्रेडिट कार्ड काम नहीं कर रहा था। एक ट्विटर हैंडल से एक्सिस बैंक के कस्टमर केयर से मदद मांगी। उसी दिन एक टोल फ्री नंबर से कॉल आई। उसने बताया कि वह एक्सिस बैंक के क्रेडिट कार्ड सर्विस से बोल रहा है। उसके दिए निर्देश के अनुसार पूरन चंद काम करते गए औ्र उनके क्रेडिट कार्ड के खाते से 90,157 रुपये निकल गए। उनकी शिकायत पर फर्श बाजार थाने में ठगी का केस दर्ज कर लिया गया। पैसे निकलने का मेसेज आते ही सिपाही पूरनचंद ने जिले के साइबर सेल से संपर्क साधा। एसीपी मनोज पंत की देखरेख में इंस्पेक्टर राकेश रावत, एसआई रोहताश, सिपाही दीपक और अमित चौधरी की टीम बनाई गई। बैंक के डेटा और टेलिफोन कंपनी के डेटा को एनालाइज किया गया। इसके आधार पर कॉल करने वाला, जिसके खाते में पैसा गया, सिम प्रोवाइड करने वाला, बिचौलिया और एटीएम कार्ड प्रोवाइड करने वाले को दबोच लिया गया। पूछताछ में पता चला कि सोशल मीडिया के जरिए कंप्लेंट करने वालों से गैंग संपर्क साधता था। आरोपियों ने पुलिस को बताया कि वे कुछ ऐप का इस्तेमाल कर स्पूफ्ड कॉल करते थे। एक सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करने से पीड़ित के मोबाइल पर टोल फ्री नंबर डिस्प्ले हो जाता था। इसके बाद आरोपी पीड़ित के क्रेडिट कार्ड से ठगी की रकम को एक वेबसाइट के जरिए ट्रांसफर करते थे। अनीश मुख्य आरोपी है, जो सोशल मीडिया में क्रेडिट कार्ड की कंप्लेंट करने वालों पर नजर रखता था। कॉल भी वही करता था। साहिल बैंक खाता और सिम कार्ड मुहैया कराता था। विकास ने रॉकी से 5000 रुपये में बैंक अकाउंट लिया था। हरीश ने 1000 रुपये में सिम बेचा था।