वाराणसी में इजाजत के बिना तिरंगा यात्रा निकालने पहुंचे संजय सिंह को पुलिस ने रोका


वाराणसी,(उत्तर प्रदेश)। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए सभी पार्टियां अपना पूरा जोर लगा रही हैं। विपक्षी दल के नेताओं को कार्यक्रम या रैली नहीं करने देने की यूपी सरकार के तरीकों की आलोचना भी हो रही है। आम आदमी पार्टी यूपी में अपना दम दिखाने के लिए वाराणसी में तिरंगा यात्रा निकालना चाहती थी लेकिन जिला प्रशासन ने इसकी इजाजत नहीं दी। इसके उलट आम आदमी पार्टी ने दो दिन पहले प्रशासन को खुली चुनौती दी थी कि इजाजत नहीं मिलने के बावजूद वे लोग तिरंगा रैली निकालेंगे। आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह तिरंगा रैली में शामिल होने के लिए वाराणसी पहुंचे। 1 बजे से रैली निकलनी थी लेकिन रैली स्थल पर पहुंचने से पहले ही उनके काफिले को पुलिस ने रोक लिया। संजय सिंह को रैली की इजाजत नहीं मिलने का हवाला देकर रोका गया।आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने मीडिया को बताया कि वह आज वाराणसी एयरपोर्ट से शहर में पार्टी की ओर से आयोजित रैली में शिरकत करने के लिए आ रहे थे लेकिन उन्हें शिवपुर थाने की पुलिस भेल के पास जबरन रोक लिया गया और वहीं पास के एक निजी अस्पताल में बैठा लिया गया। उनके साथ उनके 4 साथी भी हैं। इस शासन में तिरंगा रैली निकलने की इजाजत नहीं दी जा रही है।
उन्होंने कहा कि विपक्ष के अन्य दलों को किसी तरह का कार्ययक्रम करने से नहीं रोका जा रहा है लेकिन आम आदमी पार्टी के सभी नेताओं पर नजरबन्दी की जा रही है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, संजय सिंह यात्रा पर रोक का आधिकारिक आदेश मांगते रहे लेकिन पुलिस ने जबरन उन्हें और उनके साथियों को पास के निजी अस्पताल में बैठा दिया। आम आदमी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता मुकेश सिंह ने बताया कि वाराणसी ही नहीं आसपास के जिले के सभी पार्टी पदाधिकारियों को बुधवार से ही उनके घरों से निकलने नहीं दिया जा रहा है। आम आदमी पार्टी ने रैली की इजाजत मांगी थी लेकिन जिला प्रशासन ने रैली निकालने की इजाजत नहीं दी। उन्होंने कहा कि पीएम की रैली के लिए तमाम नियम ताक पर रख दिए जाते हैं लेकिन भारत माता की जय बोलते हुए तिरंगा रैली निकालने के कार्यक्रमों को रोक दिया जाता है। ये सिर्फ योगी शासन में ही हो सकता है।

Popular posts from this blog

उत्तर पूर्वी जिला पुलिस ने ऑपरेशन अंकुश के तहत छेनू गैंग के चार बदमाशों को किया गिरफ्तार

जीटीबी एंक्लेव थाने में तैनात दिल्ली पुलिस की महिला एसआई ने लगा ली फांसी, पुलिस ने बचाई जान

रोटरी क्लब इंदिरपुरम परिवार के पूर्व प्रधान सुशील चांडक को ज़ोन २० का बनाया गया असिस्टंट गवर्नर