मनीष की पत्नी केडीए में बनीं ओएसडी, बीजेपी विधायक और अधिकारियों ने सौंपा नियुक्ति पत्र


कानपुर ब्यूरो। कानपुर के रहने वाले मनीष गुप्ता की गोरखपुर पुलिस ने बेरहमी से पीट-पीट कर हत्या कर दी थी। मनीष हत्याकांड के 13 दिन बीत चुके हैं। रविवार को बीजेपी विधायक सुरेंद्र मैथानी और केडीए के अधिकारी घर पहुंचे। केडीए अपर सचिव और विधायक ने मनीष की पत्नी मीनाक्षी गुप्ता को ओएसडी (विशेष कार्य अधिकारी) पद का नियुक्ति पत्र सौंपा। केडीए के अधिकारियों ने मीनाक्षी से सोमवार को ज्वाईंनिंग करने के लिए कहा है, लेकिन सोमवार को मनीष गुप्ता तेहरवीं होने की वजह से मंगलवार को ज्वाइन करेंगी।
कानपुर के बर्रा थाना क्षेत्र के बर्रा तीन में रहने वाले मनीष गुप्ता बीते 27 सितंबर को दोस्तों के साथ गोरखपुर गए थे। बीते 27 सितंबर की रात गोरखपुर की रामगढ़ताल पुलिस होटल में चेकिंग करने के लिए गई थी। पुलिसकर्मियों ने चेकिंग के नाम पर मनीष और उसके दोस्तों की बेरहमी से पिटाई की थी। जिसमें कानपुर के मनीष गुप्ता की मौत हो गई थी। इस मामले ने पूरी तरह से राजनीतिक रंग ले लिया था। कांग्रेस और एसपी ने प्रदेश सरकार को घेरने का काम किया था।
मनीष की पत्नी मीनाक्षी गुप्ता और परिवार के सदस्यों से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मुलाकात की थी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मीनाक्षी गुप्ता को सरकारी नौकरी, परिवार को 40 लाख की आर्थिक मदद, घटना की सीबीआई जांच और एसआईटी का गठन कर जांच को गोरखपुर से कानपुर ट्रांसफर करने का अश्वासन दिया था। सरकार ने मीनाक्षी के परिवार की सभी मांगों को मान लिया था।
मीनाक्षी गुप्ता का कहना है कि केडीए के अधिकारियों ने मेरे सर्टिफिकेट देखें हैं। अधिकारियों ने सहयोग करने का अश्वासन दिया है। मैं सोमवार को ज्वाइन नहीं करना चाहती हूं। उस दिन मनीष की तेहरवीं संस्कार है। मैंने मंगलवार को ज्वाइन करने को कहा है। मीनाक्षी भावुक हो गईं और कहा कि मुख्यमंत्री ने मुझसे जितने वादे किए थे, उन्हे पूरा किया है, लेकिन मेरी लड़ाई अभी भी जारी है।
केडीए के अपर सचिव गुडाकेश शर्मा के मुताबिक, शासन से नौकरी का ज्वाइनिंग लेटर शनिवार को मिल गया था। रविवार को ज्वाइनिंग लेटर मीनाक्षी गुप्ता को सौंप दिया गया है। मीनाक्षी गुप्ता को शैक्षिणिक प्रमाण पत्र के अभिलेख देने हैं। इसके साथ मेडिकल जांच के प्रमाण पत्र देने हैं। इसके लिए सीएमओ संपर्क में है, जल्द ही मेडिकल जांच कर प्रमाणपत्र दे देंगे।