गाजियाबाद के आसमान में गरजे सुखोई और राफेल, एयरफोर्स ने मनाया स्थापना दिवस, एयर चीफ मार्शल ने बढ़ाया जवानों का उत्साह


गाजियाबाद ब्यूरो। गाजियाबाद में स्थित ट्रांस हिंडन एयर फोर्स स्टेशन में इंडियन एयरफोर्स ने अपना 89वां स्थापना दिवस मनाया। सुबह पूरे विधि-विधान से हिंडन एयर फोर्स स्टेशन में वायुसेना के 89वें स्थापना दिवस कार्यक्रम की शुरुआत हुई। स्टेशन में कार्यक्रमों के साथ-साथ ज्यादातर लड़ाकू विमान और हेलीकॉप्टर ने उड़ान भरी। पावर हैंड ग्लाइडिंग दल के तीन सदस्यों ने एयरबेस के ऊपर से 150 फुट की ऊंचाई से उड़ान भरी। इसके बाद पैरा मोटर दल ने एयरबेस के ऊपर 200 फुट की ऊंचाई से उड़ान भरी। खास बात यह है कि एयरफोर्स दिवस पर इस बार दुनिया का सबसे बड़ा तिरंगा लगाया गया है। कार्यक्रम की थीम आत्मनिर्भर एवं सक्षम है।
हिंडन एयरबेस पर मनाए गए वायु सेना के 89वें स्थापना दिवस के मौके पर एयर चीफ मार्शल वीआर चौधरी ने कहा कि पिछले दिनों वायुसेना ने यह साबित किया है कि चुनौतियों के आने पर जवान और सक्षम व बेहतर हुए हैं। एयर चीफ मार्शल चौधरी ने कहा कि, देश की सीमाओं की रक्षा व संप्रभुता के लिए वायु सेना हर परिस्थिति से निपटने को तैयार है। दुश्मन चाहे कोई भी हो, हर कीमत पर देश की रक्षा के लिए वायुसेना तत्पर है। उन्होंने कहा कि वक्त की मांग है कि हम उच्च तकनीक परियोजनाओं में आत्मनिर्भर बनें। हमें तकनीक को अपग्रेड करना होगा। नवोन्मेषी विचार लंबे समय से हमारी ताकत रहे हैं। एकजुटता ही हमारा अटूट विश्वास है।
एयर चीफ मार्शल चौधरी ने आगे कहा कि मेरे लिए वायुसेना का नेतृत्व करना गर्व की बात है। पिछले कुछ सालों में युद्ध का तरीका बदल गया है। उसी हिसाब से हम भी अपने को ढाल रहे हैं। वायुसेना कर्मियों को नई तकनीक और नए प्रोग्रामों से प्रशिक्षित किया जा रहा है।
कम कीमत में सर्वश्रेष्ठ विमान और रक्षा उपकरण उपलब्ध कराने का प्रयास चल रहा है इसलिए इस साल वायुसेना दिवस की थीम आत्मनिर्भर और सक्षम है। उन्होंने कोविड काल और अफगानिस्तान संकट के दौरान वायुसेना के कार्यों की प्रशंसा की। समारोह में चीफ आफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत, थल सेना प्रमुख एमएम नारवाने और नेवी चीफ एडमिरल कर्मवीर सिंह भी पहुंचे। उन्होंने सभी जवानों को  89वें स्थापना दिवस की शुभकामनाएं दीं। इस दौरान तेजस सुखोइ मिग 29 राफेल आदि विमानों ने सामने से करतब दिखाए।