राजधानी दिल्ली के उत्तर-पूर्वी जिला पुलिस ने अपराधियों के खिलाफ शुरू किया 'आपरेशन अंकुश'


अभय गंगवार,(दिल्ली ब्यूरो)। दिल्ली पुलिस ने राजधानी के उत्तर-पूर्वी जिले में अपराध और अपराधियों पर लगाम लगाने के लिए 'आपरेशन अंकुश' नामक एक अभियान शुरू किया है। पुलिस अधिकारियों ने रविवार को यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि 'अंकुश' अभियान 16-17 अक्टूबर की मध्यरात्रि को शुरू किया गया। उत्तर-पूर्वी दिल्ली के पुलिस उपायुक्त संजय कुमार सैन ने कहा कि 'आपरेशन अंकुश'  के तहत, शस्त्र अधिनियम के तहत 11 प्राथमिकी दर्ज की गईं और 11 लोगों को गिरफ्तार किया गया। इसके अलावा दो देसी पिस्तौल व चाकू आदि बरामद किए गए। पुलिस उपायुक्त के मुताबिक अवैध शराब बेचने के आरोप में अन्य छह मामले दर्ज किए गए तथा 70 लोगों पर आबकारी अधिनियम के तहत सार्वजनिक स्थानों पर शराब का सेवन करने के आरोप में मामला दर्ज किया गया। राष्ट्रीय स्वापक औषधि और एनडीपीएस अधिनियम के तहत मादक पदार्थों की बिक्री के सिलसिले में पांच मामले दर्ज किए गए। सीआरपीसी की धारा 107/151 के तहत 54 लोगों के खिलाफ निवारक कार्रवाई की गई। सीआरपीसी की धारा 109/110 के तहत सात (07) कलंद्र भी तैयार किए गए। 68 लोगों पर दिल्ली पुलिस अधिनियम की धारा 92/93/97 के तहत मामला दर्ज किया गया था। 1063 व्यक्तियों को 65 डीपी अधिनियम के तहत हिरासत में लिया गया और 110 वाहनों को दिल्ली पुलिस अधिनियम के तहत जमा किया गया। एक घोषित अपराधी (पीओ) आशीष अग्रवाल को भजनपुरा पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया गया था।
ऑपरेशन के दौरान 6 चोरी की गाडिय़ां और 4 मोबाइल फोन बरामद किए गए। गिरफ्तार व्यक्तियों से लगातार पूछताछ करने पर एमवी चोरी और स्नैचिंग के 17 मामले सामने आए। पुलिस उपायुक्त संजय कुमार सैन का कहना है कि ऑपरेशन अंकुश का मकसद जिले में अपराध और अपराधियों पर लगाम कसना एवं आम जनता में पुलिस के विश्वास को कायम रखना है। पुलिस उपायुक्त ने कहा की जिले में किसी भी तरह के अपराध को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा एवं अपराधियों से मिलीभगत करने वालों को भी नहीं बख्शा जाएगा। उनका मकसद दिल्ली पुलिस के स्लोगन शांति- सेवा- न्याय को सफल बनाना है।