दिल्ली के ज्योति नगर थाना इलाके में क्राइम ब्रांच के हवलदार ने रची थी रिटायर्ड फौजी की हत्या की साजिश


 आरोपी हेड कॉन्स्टेबल घनश्याम

दिल्ली ब्यूरो। नॉर्थ ईस्ट दिल्ली के ज्योति नगर थाना इलाके में सितंबर के महीने में हुए सेना के रिटायर्ड हवलदार के मर्डर का मास्टरमाइंड क्राइम ब्रांच का हेड कॉन्स्टेबल निकला। पुलिस ने हत्या की साजिश रचने वाले हेड कॉन्स्टेबल घनश्याम (32) को मंगलवार देर रात अरेस्ट कर लिया। वह मूल रूप से यूपी के बुलंदशहर का है। मृतक फौजी की पत्नी से सात साल से आरोपी की नजदीकियां थी। इसलिए 32 साल की उम्र होने पर भी शादी नहीं की थी। पिछले साल पति के रिटायर होने के बाद से महिला ने दूरी बना ली थी। बदला लेने के लिए आरोपी ने दो बदमाशों से पति का कत्ल करवा दिया। दोनों हत्यारों की पहचान भी हो गई है, जिनकी तलाश की जा रही है।
सुधीर कुमार (38) ज्योति नगर थाना इलाके के अशोक नगर में रहते थे। उनके एक भाई सुनील कुमार प्राइवेट जॉब में हैं, जबकि दूसरे भाई अनिल कुमार क्राइम ब्रांच के स्पेशल इनवेस्टिगेशन यूनिट में हेड कॉन्स्टेबल हैं। सुधीर आर्मी सप्लाई कोर में स्टोरकीपर पद से मई 2020 में रिटायर हुए थे। वह पत्नी और बच्चों समेत डी-ब्लॉक अशोक नगर में संयुक्त परिवार में रह रहे थे। 10 सितंबर की दोपहर सुधीर घर के बाहर रेलवे लाइन के पास कुर्सी पर बैठे थे। करीब 12:15 बजे दो बदमाशों ने उनकी कनपटी से सटाकर गोली मार दी थी। दिल्ली कैंट स्थित आर्मी हॉस्पिटल में इलाज के दौरान 16 सितंबर को उनकी मौत हो गई।
पुलिस तफ्तीश में खुलासा हुआ कि क्राइम ब्रांच के हेड कॉन्स्टेबल घनश्याम और सुधीर की पत्नी के बीच दोस्ती थी। सुधीर के भाई अनिल और घनश्याम एक ही बैच के हैं। दोनों के बीच घनिष्ठता थी, जिससे घनश्याम का घर आना-जाना था। दूसरी तरफ, सुधीर उस समय सेना में थे। इससे घनश्याम की उनकी पत्नी से सात साल से मित्रता चल रही थी। पिछले साल सुधीर रिटायर होकर आए तो उन्हें रिश्तों का पता चल गया। पत्नी को समझाया तो उसने घनश्याम से दूरी बना ली। इस पर घनश्याम ने सुधीर को ही रास्ते से हटाने की साजिश रच दी। दो हत्यारों को भेजकर इस वारदात को अंजाम दिया, जो सीसीटीवी में कैद हैं।
हेड कॉन्स्टेबल घनश्याम क्राइम ब्रांच में टेक्निकल सर्विलांस का काम देखता था। इसलिए उसने बड़ी सफाई से साजिश रची। सू्त्रों ने बताया कि काफी समय से उसने सुधीर की पत्नी को कॉल नहीं किया था। हत्याकांड के आसपास फोन खो जाने की रिपोर्ट भी लिखवा दी। लेकिन पुलिस के हाथ एक रिकॉर्डिंग लग गई, जिसमें घनश्याम ने महिला पर धोखा देने का आरोप लगाया था और बदला लेने की बात कही थी। इसके बाद सीसीटीवी फुटेज खंगाले गए तो वारदात को अंजाम देने वाले बदमाश जिस बाइक में सवार होकर आए थे, उसकी आवाजाही आरोपी हेड कॉन्स्टेबल के घर के करीब भी पाई गई। क्राइम ब्रांच के अफसरों को जानकारी दी गई तो आरोपी हेड कॉन्स्टेबल को एक हफ्ते पहले ही लाइन हाजिर कर दिया गया था।

Popular posts from this blog

उत्तर पूर्वी जिला पुलिस ने ऑपरेशन अंकुश के तहत छेनू गैंग के चार बदमाशों को किया गिरफ्तार

जीटीबी एंक्लेव थाने में तैनात दिल्ली पुलिस की महिला एसआई ने लगा ली फांसी, पुलिस ने बचाई जान

रोटरी क्लब इंदिरपुरम परिवार के पूर्व प्रधान सुशील चांडक को ज़ोन २० का बनाया गया असिस्टंट गवर्नर