फेस्टिव सीजन में ना हो जाए चूक, खुद सड़कों पर उतरे दिल्ली पुलिस के कई डीसीपी


नई दिल्ली। दिल्ली में फेस्टिव सीजन के दौरान आतंकी हमलों के खतरे और स्ट्रीट क्राइम बढ़ने की आशंका को देखते हुए दिल्ली पुलिस हाई अलर्ट पर है। पिछले हफ्ते दस दिन से लगातार भीड़भाड़ वाले बाजारों, धार्मिक स्थलों, मॉल्स व कमर्शल कॉम्प्लैक्स और अन्य संवेदनशील जगहों पर पुलिस की चौकसी बढ़ा दी गई है। सुरक्षा इंतजामों का जायजा लेने के लिए कुछ जगहों पर मॉक ड्रिल भी कंडक्ट की गई हैं।
अब दुर्गा पूजा और दशहरे को देखते हुए खुद तमाम जिलों के डीसीपी सड़कों पर उतरकर फुट पट्रोलिंग कर रहे हैं और तमाम सुरक्षा इंतजामों का जायजा लेकर उन्हें दुरुस्त रखने के लिए अपने मातहत अधिकारियों को जरूरी निर्देश दे रहे हैं। चूंकि शाम के वक्त बाजारों और धार्मिक स्थलों पर भीड़ बढ़ने लगी है, ऐसे में शाम को विशेष एहतियात बरती जा रही है। पुलिस के सीनियर अफसरों के द्वारा की जा रही इस कवायद के बारे में सोशल मीडिया के जरिए भी आम लोगों को लगातार जानकारी दी जा रही है। पिछले एक हफ्ते के दौरान सभी जिलों के डीसीपी अपने-अपने जिलों की सभी संवेदनशील जगहों पर खुद जाकर अपनी पूरी टीम के साथ एरिया डोमिनेशन और फुट पट्रोलिंग कर रहे हैं। बुधवार को साउथ-ईस्ट डिस्ट्रिक्ट की डीसीपी ईशा पांडे ने जहां पूरे लाजपत नगर मार्केट में फुट पट्रोलिंग की, तो वहीं नई दिल्ली के डीसीपी दीपक यादव ने कनॉट प्लेस का चक्कर लगाया। उधर वेस्ट डिस्ट्रिक्ट की डीसीपी उर्विजा गोयल ने तिलक नगर मार्केट में सुरक्षा इंतजामों का जायजा लिया, तो साउथ डिस्ट्रिक्ट की डीसीपी बेनिता मेरी जेकर ने छतरपुर मंदिर और सीआर पार्क जाकर सुरक्षा इंतजामों के सिलसिले में पुलिस फोर्स की ऑनग्राउंड ब्रीफिंग की। कालकाजी मंदिर पर भी साउथ-ईस्ट डिस्ट्रिक्ट डीसीपी खुद रोज जाकर सुरक्षा इंतजामों को चाक-चौबंद रखने का इंतजाम कर रहीं हैं। मार्केट्स में फुट पट्रोलिंग के दौरान डीसीपी मार्केट असोसिएशन के पदाधिकारियों और अन्य दुकानदारों से बात करके उन्हें भी अलर्ट रहने का निर्देश दे रहे हैं। दुकानों पर तैनात प्राइवेट सिक्योरिटी गार्डों को भी विशेष एहतियात बरतने के लिए कहा गया है। आतंकी हमलों के खतरे के मद्देनजर मार्केट में एनक्रोचमेंट हटाकर पैदल चलने वालों का रास्ता क्लियर रखने पर भी विशेष ध्यान दिया जा रहा है। इसके लिए सिविक एजेंसियों से भी मदद ली जा रही है। पुलिस सूत्रों के मुताबिक, पिछले हफ्ते हुई एक बैठक में पुलिस कमिश्नर राकेश अस्थाना ने फेस्टिव सीजन के दौरान आतंकी हमलों के खतरे को लेकर पुलिस अधिकारियों के साथ चर्चा की थी और उनसे सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त करने और सभी इंतजामों पर खुद निगरानी रखकर पुलिस की अलर्टनेस को सुनिश्चित करने का निर्देश दिया था। उसी के बाद से डीसीपी और जॉइंट सीपी से लेकर स्पेशल सीपी रैंक तक के तमाम अधिकारी खुद फील्ड में उतर रहे हैं।