शाहजहांपुर में कोर्ट के अंदर दिनदहाड़े वकील की हत्या



शाहजहांपुर,(उत्तर प्रदेश)। शाहजहांपुर की कोर्ट में सोमवार को दिनदहाड़े एक वकील की हत्या के बाद से हड़कंप मचा हुआ है। सूरजपुर पुलिस ने जिला न्यायालय में सुरक्षा व्यवस्था को लेकर अभियान चलाया है। पुलिसकर्मियों ने संदिग्ध लोगों से पूछताछ की और उनकी तलाशी ली। कोर्ट परिसर के गेट पर भी सुरक्षा बढ़ा दी गई है। सीसीटीवी फुटेज और रंजिश के आधार पर पुलिस ने आरोपी सुरेश गुप्ता को गिरफ्तार कर लिया है।
शहजहांपुर में सोमवार दोपहर कचहरी परिसर में वकील भूपेंद्र सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई। पुलिस को शव के पास ही हत्या में इस्तेमाल किया गया तमंचा पड़ा मिला। एडीजी एलओ प्रशांत कुमार ने बताया कि आरोपी ने वारदात कबूल ली है। जानकारी के अनुसार, जलालाबाद निवासी भूपेंद्र सोमवार को कचहरी के तीसरे तल पर सुबह साढ़े 11 बजे स्थित एसीजेएम प्रथम के रेकॉर्ड रूम में कुछ जानकारी करने गए थे।
पॉइंट ब्लैंक रेंज से सिर पर मारी गोली
इसी बीच सुरेश गुप्ता वहां आया और भूपेंद्र को पॉइंट ब्लैंक रेंज से सिर पर गोली मारकर फरार हो गया। बाबू ने गोली चलने की आवाज सुनी और देखा कि भूपेंद्र जमीन पर पड़े हुए हैं और उनके सिर से खून बह रहा है। पास में ही 315 बोर का तमंचा भी पड़ा हुआ था। पुलिस को सूचना दी गई। एसपी एस आनंद के मुताबिक फायरिंग के दौरान किसी को भूपेंद्र के आस-पास नहीं देखा गया था।
सुरेश और भूपेंद्र के बीच मकान-किरायेदारी को लेकर लंबे समय से विवाद चल रहा है। दोनों ने एक-दूसरे के खिलाफ दो दर्जन मुकदमे करवा रखे हैं। भूपेंद्र के भाई ने सुरेश गुप्ता, गौरव गुप्ता और अंकित गुप्ता के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज करवाया है। भूपेंद्र प्रताप सिंह (55) रिटायर्ड स्कूल टीचर थे जो 2019 से वकालत कर रहे थे।
शाहजहांपुर कोर्ट की घटना के बाद जिला न्यायालय में बढ़ी सुरक्षा
एसीपी पीपी सिंह सोमवार दोपहर पुलिस टीम के साथ कोर्ट परिसर में पहुंचे और सघन तलाशी अभियान चलाया। कोर्ट परिसर में अंदर आने वाले लोगों की भी तलाशी ली गई। कोर्ट परिसर में सुरक्षा व्यवस्था को लेकर तैनात पुलिसकर्मियों को दिशा निर्देश दिए। एसीपी पीपी सिंह ने बताया कि कोर्ट परिसर में कोई संदिग्ध व्यक्ति दिखाई दिया तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।