एनआईए ने मेरठ के किठौर में की छापेमारी, दो घरों से भारी मात्रा में पिस्टल व हैंड ग्रेनेड बरामद


मेरठ। उत्तर प्रदेश के मेरठ में एनआईए ने बड़ी कार्रवाई करते हुए एक बार फिर छापेमारी की है। जानकारी मिली है कि एनआईए ने किठौर थाना क्षेत्र के कई घरों में छापेमारी की। छापेमारी के दौरान दो लोगों के यहां  एनआई को भारी मात्रा में पिस्टल और हैंड ग्रेनेड बरामद हुए हैं। हालांकि पुलिस इस मामले में कोई भी जानकारी होने से इनकार कर रही है। बताया गया है कि यहां किठौर थाना क्षेत्र के राधना गांव में एनआईए ने रात से ही डेरा डाला हुआ था। जानकारी के अनुसार किठौर थाना क्षेत्र में मंगलवार को बड़ी कार्रवाई करते हुए राधना गांव में सुबह तीन बजे और दोपहर 1:00 बजे खिलाफत और भूरे के घर पर छापा मारा। बताया गया कि एनआईए को दोनों आरोपी फरार मिले, लेकिन इनके घरों से एनआईए को दबिश के दौरान भारी मात्रा में बने अधबने पिस्टल और हैंड ग्रेनेड मिले हैं। एनआईए पहले भी क्षेत्र में छापेमारी कर चुकी है। बता दें कि हथियार सप्लाई करने के मामले में मेरठ हमेशा एनआईए के निशाने पर रहता है। मेरठ से हथियार सप्लाई करने के कई मामले सामने आ चुका है। आरएसएस नेता की हत्या के मामले में भी मेरठ से हथियार सप्लाई किए गए थे। 
पंजाब में आरएसएस नेता रविंदर गोसाई की हत्या के मामले में भी 2016 में मेरठ से ही हथियार सप्लाई हुए थे। इससे पहले घंटाघर पर एक होटल में अवैध हथियार खरीदने के लिए पंजाब से कई लोग आए थे। 
इस मामले में भी एनआईए और पंजाब पुलिस ने मेरठ से कई लोगों को हिरासत में लिया था। उसके बाद मेरठ से एनआईए की टीम कई लोगों को उठाकर ले गई और पूछताछ भी की। इसके अलावा किठौर क्षेत्र के कई गांव में एनआईए की टीम ने छापा मारकर कई युवकों को उठाकर पूछताछ की थी। बता दें कि मेरठ के किठौर, सरधना, मवाना, हस्तिनापुर, रोहटा, सरूरपुर और लिसाड़ीगेट में अवैध हथियार बनाने का धंधा चलता है। जिसका कई बार मेरठ पुलिस खुलासा कर चुकी है। दिल्ली पुलिस भी कई बार मेरठ में बने अवैध हथियार बरामद कर चुकी है। खालिस्तान समर्थकों को भी मेरठ से अवैध हथियारों की सप्लाई होती है।