सहारनपुर में दलित बीजेपी नेता पलायन को मजबूर, पुलिस पर कार्रवाई न करने का आरोप


सहारनपुर,(उत्तर प्रदेश)। सहारनपुर के एक दलित बीजेपी नेता ने शिकायत की है कि उसे अपनी ही सरकार से इंसाफ नहीं मिल रहा इसलिए वह गांव से पलायन करने को मजबूर हैं। यही नहीं बीजेपी नेता ने यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को पत्र भेजकर सहारनपुर पुलिस पर कार्रवाई न करने का आरोप लगाया है। उन्होंने बताया कि उसके परिवार को जान से मारने की धमकी मिल रही है। इलाके के पुलिस अधिकारी ने बताया कि उनकी शिकायत पर जांच की जाएगी और दूसरे पक्ष से बात करने बाद मामले पर कार्रवाई की जाएगी। किसी भी स्थिति में एकतरफा कार्रवाई नहीं की जाएगी। ग्राम बिलासपुर मे बीजेपी के पूर्व मत्स्य प्रकोष्ठ के जिला संयोजक और भारतीय कश्यप सेना के जिला संयोजक भोपाल सिंह ने कुछ दबंगों पर पुलिस के कार्रवाई न करने से परेशान होकर अपने परिवार सहित गांव से पलायन करने का मन बना लिया है। साथ ही अपने मकान पर अपनी नेम प्लेट के नीचे 'गांव से पलायन को मजबूर है' भी लिख दिया है।
सीएम को लिखे पत्र के अनुसार, बीजेपी नेता नेता भोपाल सिंह विगत 14 अक्टूबर को सुबह दस बजे वह ग्राम भूटीबास निवासी सतीश के साथ एक मिस्त्री की दुकान पर बैठे थे और जब वहां से बाहर निकले तो पहले से ही घात लगाए बैठे तीन दबंगों ने उस पर लाठी-डंडों से हमला कर दिया। उनका आरोप है कि दबंगों ने उनकी मां को भी नहीं बख्शा और उनके साथ भी मारपीट की। भोपाल सिंह का कहना है वह किसी मामले में सतीश की पैरवी कर रहे हैं जिससे दबंग उनसे नाराज है। वे उन्हें और उनके परिवार को जान से मारना चाहते हैं। भोपाल का आरोप है कि उन्होंने इस मामले की जानकारी पुलिस को भी दी है लेकिन पुलिस कोई कार्रवाई नहीं कर रही। कार्रवाई के लिए उन्होंने जिले के वरिष्ठ अधिकारियों से भी संपर्क किया लेकिन तब भी उसकी नहीं सुनी गई।
भोपाल सिंह ने पत्र में लिखा है कि उन्होंने इस मामले को लेकर कैराना सांसद प्रदीप चौधरी और गंगोह विधायक कीरत सिंह ने भी संपर्क किया लेकिन दुख की बात है कि पुलिस ने सांसद और विधायक की बात भी नहीं सुनी। भोपाल सिंह ने कहा कि जब कोई उसकी सुनने को तैयार नहीं है तो वह मजबूर होकर अपने परिवार सहित गांव से पलायन कर रहे हैं।

Popular posts from this blog

उत्तर पूर्वी जिला पुलिस ने ऑपरेशन अंकुश के तहत छेनू गैंग के चार बदमाशों को किया गिरफ्तार

जीटीबी एंक्लेव थाने में तैनात दिल्ली पुलिस की महिला एसआई ने लगा ली फांसी, पुलिस ने बचाई जान

रोटरी क्लब इंदिरपुरम परिवार के पूर्व प्रधान सुशील चांडक को ज़ोन २० का बनाया गया असिस्टंट गवर्नर