खीरी हिंसा में मारे गए पत्रकार के भाई का आरोप- किसानों पर दोष मढ़ने का दबाव बना रहा मीडिया


  • पत्रकार के परिजनों का आरोप है कि उन पर किसानों के खिलाफ बयान देने का दबाव बनाया जा रहा
  • पत्रकार के घरवालों ने आशीष मिश्रा और उसके साथियों पर पत्रकार की हत्या का आरोप लगाया है
  • बुधवार को एक वीडियो वायरल हो रहा था जिसमें पत्रकार के भाई पवन मीडिया पर आरोप लगा रहे थे
लखीमपुर खीरी। लखीमपुर खीरी हिंसा में मारे गए पत्रकार रमन कश्यप के परिजनों का आरोप है कि उन पर किसानों के खिलाफ बयान देने का दबाव बनाया जा रहा है। रमन के परिजन शुरुआत से ही केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष और उसके साथियों पर पत्रकार की हत्या का आरोप लगा रहे हैं। रमन के भाई ने कहा कि कुछ लोग उनसे किसानों पर दोष मढ़ने को कर रहे हैं।
रमन के भाई पवन ने बताया, 'मेरे पिता और मैंने सभी को एक ही बयान दिया कि उसे (रमन) केंद्रीय मंत्री के काफिले में शामिल गाड़ी से कुचला गया और गोली मारी गई। लेकिन कई पत्रकार अब हमसे यह कहलवाने की कोशिश कर रहे हैं कि उसे किसानों ने पीट-पीटकर मारा जो कि वास्तव में हुआ नहीं है।'
बीकेयू प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा था कि रमन कश्यप को किसान शहीद के रूप में गिना जाएगा। इस पर पवन ने कहा, 'मेरा भाई पत्रकार था लेकिन हम किसान परिवार हैं। टिकैत ने जो कहा वह सही है।' पवन ने आगे कहा, 'मुझे अभी पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट नहीं मिली है। मुझे कहा गया था कि हमारी शिकायत को एक दूसरी एफआईआर के साथ अटैच करने की प्रक्रिया जारी है जो कि पहले से दर्ज की जा चुकी है। किसानों की एफआईआर में ही हमारी शिकायत भी जोड़ी जा रही है।'
बुधवार को एक वीडियो वायरल हो रहा था जिसमें पवन मीडिया पर आरोप लगा रहे थे। पवन वीडियो में कह रहे थे, 'वे हमारे मुंह में शब्द घुसाने की कोशिश कर रहे हैं कि उसे किसानों ने पीट-पीटकर मारा। हमने कहा कि यह झूठ है लेकिन इस पर राजनीति खत्म नहीं हो रही है।'
पवन ने बताया, 'एक पत्रकार आए और कहने लगे कि अटॉप्सी रिपोर्ट में कहा गया है कि रमन की मौत लाठियों से पिटाई के कारण चोट से हुई है। मेरी उनके साथ बहस हो गई। उन्होंने मुझे धमकाते हुए कहा कि अगर मैं पत्रकार का भाई न होता तो इतनी तमीज से बात न करते। अटॉप्सी रिपोर्ट अभी आई नहीं है और वो लोग कहानियां बना रहे हैं।' पवन ने कहा, 'मैं उस वक्त शवगृह में था। मैंने चोट देखी थी। उसे लाठियों से नहीं मारा गया था।'