क्राइम पेट्रोल देखकर एक रात में लूट की चार वारदात की थीं, मुठभेड़ के बाद दोनों गिरफ्तार


दिल्ली ब्यूरो। क्राइम पेट्रोल देखकर एक रात में लूट की चार वारदात से एरिया में दहशत फैलाने वाले दो बदमाशों को पुलिस ने मुठभेड़ के बाद दबोच लिया है। दोनों तरफ से चली गोलियों में दोनों बदमाशों के पैरों पर गोलियां लगी, वहीं पुलिसकर्मी की बुलेटप्रूफ जैकेट पर भी गोली लगी है। द्वारका एएटीएस टीम पुलिस ने इसे ऑपरेशन वर्चस्व का नाम दिया है, जो आगे भी जारी रहेगा। द्वारका डीसीपी शंकर चौधरी ने बताया कि 11/12 अक्टूबर की रात में द्वारका सब डिविजन में लूट की चार घटनाओं की जानकारी मिली थी। पहली घटना में रात 12.30 बजे पीड़ित ने बताया कि वह अपने स्कूटर पर काम से लौट रहा था, तभी द्वारका सेक्टर-23 के महादेव अपार्टमेंट के पास एक कार ने उन्हें ओवरटेक कर रोका। तीन लोग बाहर आए और उन्होंने मोबाइल, पर्स लूट लिए। वहीं दूसरे मामले में शिकायतकर्ता ने बताया कि वेलकम होटल के पास एक सैंट्रो कार में सवार तीन-चार लड़कों ने उन्हें लूट लिया। तीसरी वारदात में रात 1.15 बजे आईटीएल स्कूल के पास एक व्यक्ति का मोबाइल फोन लूटा गया। वहीं, चौथी वारदात में पीड़ित शगुन ने बताया कि जब वह काम से स्कूटर पर वापस आ रहा था, रात करीब 2.35 बजे वेगास मॉल के पास सैंट्रो कार चालकों ने उनका फोन लूट लिया।
एक के बाद एक इतनी वारदात होने के बाद एएटीएस के इंस्पेक्टर कमलेश कुमार की टीम को इन सैंट्रो कार चालकों को पकड़ने के लिए लगाया गया। चारों वारदात के पैटर्न को समझते हुए पुलिस टीम ने सीसीटीवी खंगाले। लेकिन अंधेरे की वजह से कुछ ठोस नहीं मिल पाया। 200 सीसीटीवी की जांच की और 100 से अधिक लोगों की पड़ताल की गई। आखिरकार पुलिस को सूचना मिली की सैंट्रो कार के लुटेरे द्वारका एरिया में लूट को अंजाम देने आने वाले हैं। सूचना के आधार पर पुलिस ने जाल बिछाया। पुलिस को द्वारका सेक्टर-10 रामलीला ग्राउंड के पास यह सैंट्रो कार नजर आई। जिसके बाद पुलिस टीम ने कार को सामने और पीछे से ब्लॉक किया। अचानक कार के चालक और पीछे बैठे एक व्यक्ति कार से बाहर आए और भागने की कोशिश की। लेकिन जब देखा कि पुलिस से घिर चुके हैं तो उन्होंने सरेंडर कर दिया। लेकिन इसी दौरान दोनों ने मौका पाकर पुलिस टीम पर गोलियां चला दीं। बचाव में हेड कॉन्स्टेबल शलजु और कॉन्स्टेबल अरविंद ने भी गोलियां चलाईं। पुलिस की तरफ से चली गोली दोनों आरोपियों के घुटने पर लगी। जिसके बाद पुलिस ने दोनों को अरेस्ट कर लिया। दोनों की पहचान सचिन (22) मंगोलपुरी और बबलू (20) मंगोलपुरी के तौर पर हुई। दोनों को डीडीयू अस्पताल ले जाचा गया। दोनों पर द्वारका साउथ थाने में आर्म्स एक्ट व अन्य धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया।
जांच के दौरान पुलिस ने सुलतानपुरी में रेड कर विशाल (21) को भी अरेस्ट किया। यह दिल्ली सिविल डिफेंस में पहले काम कर चुका है। इसके पास से लूट के चार मोबाइल फेान बरामद हुए। आरोपियों के पास से एक अत्याधुनिक पिस्टल, एक देसी पिस्टल, एक कारतूस, चार खोल, तीन कार्टेज, एक चोरी की कार बरामद हुई है।


Popular posts from this blog

उत्तर पूर्वी जिला पुलिस ने ऑपरेशन अंकुश के तहत छेनू गैंग के चार बदमाशों को किया गिरफ्तार

जीटीबी एंक्लेव थाने में तैनात दिल्ली पुलिस की महिला एसआई ने लगा ली फांसी, पुलिस ने बचाई जान

रोटरी क्लब इंदिरपुरम परिवार के पूर्व प्रधान सुशील चांडक को ज़ोन २० का बनाया गया असिस्टंट गवर्नर