कंपनी के जीएम को अगवा कर बदमाशों ने की लूटपाट


नोएडा। द‍िल्‍ली से सटे यूपी के नोएडा सेक्टर बीटा-2 कोतवाली एरिया में गुरुवार सुबह डयूटी के लिए जा रहे एक कंपनी के जनरल मैनेजर के साथ कार सवार बदमाशों ने लूटपाट की। बदमाशों ने अपहरण कर उन्हें बधक बना लिया और उसके बाद शहर में दो घंटे तक घुमाते रहे। इस बीच बदमाशों ने एटीएम से 20 हजार रुपये निकलवाए। साथ ही पर्स में रखे रुपये भी लूट लिए। विरोध करने पर बदमाशों ने जीएम के शरीर पर पेचकस से कई वार किए। इससे वे घायल हो गए। पीड़ित की तहरीर पर पुलिस ने मामले की एफआईआर दर्ज कर ली है। उधर, बढ़ते क्राइम को देखते हुए पुलिस अधिकारियों ने बीटा-2 कोतवाली प्रभारी को पुलिस लाइन भेज दिया है।
पुल‍िस के अनुसार, बीटा-1 निवासी मृगेंद्र कुमार कटारिया (67) दिल्ली स्थित एक कंपनी में जीएम है। वह बीटा-1 सेक्टर में परिवार के साथ रहते हैं। हालांकि वह रोजना कार से दफ्तर जाते हैं, लेकिन गुरुवार सुबह मेट्रो से ऑफिस जाने के लिए घर से निकले थे। बीटा-1 सेक्टर के पास रेयान गोलचक्कर पर वह ऑटो का इंतजार करने लगे। उसी दौरान कार सवार चार बदमाशों ने उनका अपहरण कर लिया। इस दौरान बदमाशों ने उनकी आंखों पर पट्टी बांध दी। साथ ही विरोध करने पर उनपर पेचकस मारकर घायल किया गया। पहले बदमाशों ने उनके जेब में रखे पर्स से नकदी लूट ली। उसके बाद एटीएम का पासवर्ड पूछा। लूट का विरोध करने पर बदमाशों ने पेचकस से उनके शरीर पर जगह-जगह वार किए।
पीड़ित के मुताबिक, बदमाशों के पास स्वाइप मशीन भी थी। शहर में दो घंटे तक घुमाने के बाद बदमाश मृगेंद्र कटारियों को सिल्वर सिटी सोसायटी के पास छोड़कर फरार हो गए। उधर, बढ़ती क्राइम की घटनाओं को देखते हुए बीटा-2 कोतवाली प्रभारी रामेश्वर कुमार को पुलिस लाइन भेज दिया गया है। वहीं, अनिल कुमार को नया कोतवाली प्रभारी बनाया गया है। आरोप है कि शहर में पिछले छह माह से पेचकस गिरोह सक्रिय है। यह गिरोह पेचकस मारकर लोगों के साथ लूटपाट करता है। डीसीपी अभिषेक का कहना है कि घटना का खुलासा करने के लिए तीन टीमों को लगाया गया है। कुछ अहम सुराग हाथ लगे हैं। जल्द ही घटना का खुलासा कर दिया जाएगा।