कानपुर में जीका वायरस के मरीज मिलने से अलर्ट, बाहरी राज्‍यों से आने वालों की होगी स्क्रीनिंग


कानपुर ब्यूरो। कानपुर में जीका वायरस के तीन और मिले केस ने अब खतरे की घंटी बजा दी है। त्योहारी सीजन में देश के विभिन्न भागों से लोग अपने घर आ रहे हैं। ऐसे में जिन प्रदेशों में जीका वायरस का प्रकोप बढ़ा है, वहां से आने वाले लोग अपने इलाके में इसका प्रसार कर सकते हैं। इस प्रकार की समस्या को देखते हुए अब प्रदेश भर में सतर्कता बढ़ाने का निर्णय लया गया है। दूसरे प्रदेशों से आने वाले लोगों की निगरानी के निर्देश दिए गए हैं। खासकर, जीका वायरस संक्रमण से प्रभावित केरल व राजस्थान से आने वाले लोगों को बुखार होने की स्थिति में डेंगू के साथ जीका की भी जांच कराई जाएगी।
कानपुर में जीका वायरस के तीन और केस मिलने के बाद कुल मरीजों की संख्या चार पर पहुंच गई है। दरअसल, करीब 16 दिन पहले जीका वायरस के एक मरीज की पुष्टि हुई थी। इसके बाद 400 मीटर क्षेत्र में रहने वाले और जीका पॉजिटिव मरीजों के संपर्क में आने वालों की जांच कराई गई। 510 लोगों के सैंपल की केजीएमयू के माइक्रोबायोलॉजी विभाग के लैब में जांच के क्रम में तीन सैंपल को पॉजिटिव पाया गया। इसके बाद निर्णय लिया गया है कि कानपुर में जीका प्रभावित इलाके के तीन किलोमीटर के दायरे को कंटेनमेंट जोन बनाकर बुखार वाले मरीजों में जीका वायरस संक्रमण की जांच कराई जाएगी।
स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ. वेदव्रत सिंह ने जीका वायरस प्रभावित कानपुर में विशेष निगरानी के निर्देश दिए गए हैं। पूरे क्षेत्र से जानकारी एकत्र करने को कहा गया है। इसके अलावा अन्य जिलों में भी दीपावली के मौके पर अन्य प्रदेशों से आए लोगों में बुखार की शिकायत आने पर जीका की जांच कराने का निर्देश दिया गया है। स्वास्थ्य महानिदेशक ने सभी सीएमओ को तत्काल रैपिड रिस्पांस टीम तैयार करने का निर्देश दिया है। डेंगू प्रभावित इलाकों में रैंडम जीका की जांच कराने का भी निर्देश दिया गया है। इसके अलावा विदेश से आने वालों की स्क्रीनिंग करने का भी निर्देश दिया गया है।