कंट्रोल ब्लास्ट से ढहाए जाएंगे भ्रष्टाचार के टि्वन टावर


नोएडा ब्यूरो। यूपी में नोएडा के सुपरटेक एमराल्ड कोर्ट सेक्टर-93 ए में अवैध करार दिए जा चुके टि्वन टावर कंट्रोल ब्लास्ट से गिराए जाएंगे। नोएडा अथॉरिटी, सीबीआरआई, बिल्डर और अन्य एक्सपर्ट की हुई बैठकों में टावर गिराने का यह तरीका लगभग तय हो गया है। ब्लास्ट किस तरह से करवाए जाएं कि मलबा इधर-उधर न जाने पाए और आसपास के टावर व आबादी की सुरक्षा के लिए कोई खतरा न हो। इस बिंदु पर सोमवार को बिल्डर की एजेंसियां अपना एक्शन प्लान अथॉरिटी और सीबीआरआई के साथ होने वाली बैठक में रखेंगी। इस प्रजेंटेशन के आधार पर सीबीआरआई और अथॉरिटी एजेंसी चयन पर अपनी मुहर लगाएंगे। अगर प्रजेंटेशन से सीबीआरआई की टीम संतुष्ट नहीं हुई तो बिल्डर को अन्य एजेंसियों के लिए कहा जाएगा।
कंट्रोल ब्लास्ट को लेकर अथॉरिटी अधिकारियों का कहना है कि टावर ब्लास्ट से तोड़े जाएंगे लेकिन पूर्व में आकलन होगा। इसमें यह अनुमान लगाया जाएगा कि टावर टूटने पर सीधे नीचे बैठे। मलबा आस-पास फैलने से रोक लिया जाए। इसके साथ ही ब्लास्ट से कोई जमीन पर ऐसा कंपन न हो जो आस-पास की दूसरी इमारतों के लिए खतरा बन जाए। इसके लिए क्या क्या किया जाना चाहिए यह तोड़ने वाली एजेंसी तय करेगी।
एजेंसी और सीबीआरआई की टीम और एक्सपर्ट को टावर में ऊपर भी जाना होगा। अब तक ये दोनों टावर हाई कोर्ट के आदेश के बाद से सील हैं। यह सील खोलने का भी आदेश अथॉरिटी से जारी किया गया। अथॉरिटी की टीम ने मौके पर जाकर शनिवार को सील खोल दी है। अब नीचे से ऊपर तक कानूनी रूप से आवागमन हो सकेगा। इसके साथ ही कोई भी तोड़फोड़ की प्रक्रिया शुरू करने की सहमति बनेगी।