आयकर विभाग ने रिक्शा चालक को थमा दिया साढ़े तीन करोड़ के इनकम टैक्स का नोटिस


मथुरा,(उत्तर प्रदेश)। मथुरा में एक ऐसा मामला सामने आया है जिसे पढ़कर और सुनकर आपके होश उड़ जाएंगे। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की तरफ से एक रिक्शा चालक को साढ़े तीन करोड़ रुपए का टैक्स जमा न करने के एवज में नोटिस मिला। नोटिस में भारी-भरकम देख रिक्शा चालक के होश फाख्ता हो गए और रिक्शा चालक ने थाना हाईवे में जालसाजी की रिपोर्ट दर्ज कराई है। तहरीर के आधार पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है। रविवार को थाना हाईवे क्षेत्र के अंतर्गत आने वाली अमर कॉलोनी निवासी प्रताप सिंह थाना हाईवे पहुंचे और उसने अपने साथ हुई जालसाजी का मुकदमा दर्ज कराया है। पीड़ित द्वारा थाना हाईवे में दी गई। तहरीर के आधार पर पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। प्रताप सिंह ने बताया के 19 अक्टूबर को इनकम टैक्स डिपार्टमेंट से उसे एक नोटिस मिला और इस नोटिस में उसने टैक्स जमा ना करने की बात को देखा तो उसके होश फाख्ता हो गए। प्रताप ने कहा 3,47,54.896 रुपए का नोटिस प्राप्त हुआ है और धन राशि को जमा करने के लिए बोला गया है। उन्होंने बताया कि नोटिस में जीएसटी नंबर व्यवसाय करने के अनुसार 2018-19 का टर्नओवर 4,34,43,6201 का दिखाया गया है। पीड़ित ने बताया कि उसका कोई व्यवसाय और वह रिक्शा चला कर अपने परिवार का गुजारा करता है। प्रताप मूल रूप से थाना गोवर्धन क्षेत्र के गांव अडींग का रहने वाला है। 1997 से थाना हाईवे की अमर कॉलोनी में रहकर वह अपने परिवार का पालन पोषण कर रहा है। पीड़ित प्रताप का कहना है 15 मार्च को उसने एक बाकलपुर के संजय नाम के व्यक्ति के जन सुविधा केंद्र से पैन कार्ड बनवाने के लिए आवेदन किया था। आवेदन करने के बाद जब उसे काफी समय तक पैन कार्ड नहीं मिला तो वह जन सुविधा केंद्र गया।
वहीं थाना हाईवे प्रभारी निरीक्षक अनुज कुमार ने मामले की जानकारी देते हुए बताया कि एक व्यक्ति के द्वारा अपने साथ हुई जालसाजी की तहरीर दी गई है। मामले की जांच की जा रही है। जांच के बाद जो भी तथ्य निकलकर सामने आएंगे उसी के आधार पर कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि जिस जीएसटी नंबर से यह जालसाजी हुई है वह अभी ट्रैक नहीं हो पाया है।