गाजियाबाद में वन विभाग चूहे और छछूंदर पकड़ेगा, मलेरिया विभाग मारेगा मच्छर


गाजियाबाद ब्यूरो। डेंगू, मलेरिया सहित अन्य संक्रामक बीमारियों पर नियंत्रण के लिए अलग-अलग विभागों की जिम्मेदारी तय की गई है। इसमें वन विभाग चूहे और छछूंदर पकड़ेगा और मलेरिया विभाग मच्छर मारेगा। शिक्षा विभाग बच्चों के माध्यम से संक्रामक बीमारियों के प्रति लोगों को जागरूक करेगा। जिले में तेजी से बढ़ रहे डेंगू के मामलों को देखते हुए संचारी रोग नियंत्रण अभियान के तहत कलक्ट्रेट में बैठक हुई। मुख्य विकास अधिकारी अस्मिता लाल ने संचारी रोग नियंत्रण अभियान चलाने के लिए समीक्षा बैठक की। उन्होेंने स्वास्थ्य अधिकारियों को डेंगू और मलेरिया के बढ़ते संक्रमण रोकने के लिए प्रभावी कार्रवाई करने का निर्देश दिया।
शासन के निर्देश पर जिले में 18 अक्तूबर से 17 नवंबर तक संचारी रोग नियंत्रण अभियान चलाया जाएगा। इसमें 17 अलग-अलग विभागों की भूमिका रहेगी। अभियान में स्वास्थ्य विभाग, नगर विकास विभाग, शिक्षा विभाग, पंचायती राज एवं ग्रामीण विकास विभाग, पशुपालन विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग, कृषि विभाग, सिंचाई विभाग, वन विभाग, सूचना विभाग, दिव्यांगजन विभाग को शामिल किया गया है। नगर निगम, नगर पालिका, नगर पंचायत एवं पंचायत विभाग विशेष स्वच्छता अभियान संचालित करते हुए गली-मोहल्लों में नालियों की विशेष सफाई पर ध्यान देंगे। साथ ही जलभराव पर अंकुश लगाते हुए फॉगिंग और एंटी लार्वा का छिड़काव करवाएंगे। अन्य विभागीय अधिकारी भी इस अभियान का प्रचार प्रसार करते हुए कार्रवाई करेंगे।
इस अभियान में एएनएम और आशा कार्यकर्ताओं का भी सहयोग लिया जाएगा, जिससे मच्छरों के प्रति जागरूकता फैलाई जा सके और उनसे होने वाली बीमारियों की रोकथाम की जा सके। बैठक में सीएमओ डॉ. भवतोष शंखधार, परियोजना निदेशक पीएन दीक्षित, एसीएमओ डॉ. आरके यादव, नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथिलेश सिंह, डीएसओ डॉ. आरके गुप्ता, डीएमओ जीके मिश्रा समेत अन्य स्वास्थ्य अधिकारी मौजूद रहे।